सहजन के ये फायदे हैं बेहद चमत्कारी

सहजन के ये फायदे हैं बेहद चमत्कारी, जानकार हैरान रह जाएंगे आप 

Ultra News TV Hindi | 29 November, 2022

सहजन का फूल  सहजन का फूल पेट व कफ रोगों में लाभदायक है। इसके फूल की सब्जी बनाकर भी इसका सेवन किया जा सकता है।  Curved ArrowScribbled Underline

सहजन के पेड़ की छाल  इसका सेवन साइटिका, गठिया और लीवर को फायदा पहुंचाता है। सहजन की छाल में शहद मिलाकर पीने से कफ व वात प्रकृति से सम्बंधित रोगों से निजात मिलता है।  Curved ArrowScribbled Underline

सहजन की फली सहजन की फली सहजन की फली वात व उदरशूल में बेहद उपयोगी है। इसके सभी अंगों में से इसकी फलियों का सेवन सबसे अधिक किया जाता है। सहजन की फली वात व उदरशूल में बेहद उपयोगी है। इसके सभी अंगों में से इसकी फलियों का सेवन सबसे अधिक किया जाता है।

सहजन की पत्ती सहजन की पत्ती सहजन की पत्तियाँ नेत्र रोग में बेहद गुणकारी हैं। इसकी पत्तियॉं कार्बोहायड्रेट, कैल्शियम, पोटेसियम, आयरन, मैग्नीसियम, विटामिन ए,सी और बी काम्प्लेक्स से युक्त होत्ती हैं। सहजन की पत्तियाँ नेत्र रोग में बेहद गुणकारी हैं। इसकी पत्तियॉं कार्बोहायड्रेट, कैल्शियम, पोटेसियम, आयरन, मैग्नीसियम, विटामिन ए,सी और बी काम्प्लेक्स से युक्त होत्ती हैं।

उपयोगी है विभिन्न अंगों का रस उपयोगी है विभिन्न अंगों का रस सहजन के विभिन्न अंगों के रस को मधुर, वातघ्न, रुचिकारक, वेदनाशक, पाचक आदि गुणों के रूप में जाना जाता है। सहजन के विभिन्न अंगों के रस को मधुर, वातघ्न, रुचिकारक, वेदनाशक, पाचक आदि गुणों के रूप में जाना जाता है।

सहजन के आयुर्वेदिक लाभ सहजन के आयुर्वेदिक लाभ आयुर्वेद मानता है कि सहजन की फलियों से 300 बीमारियों का उपचार संभव है। आयुर्वेद मानता है कि सहजन की फलियों से 300 बीमारियों का उपचार संभव है।

यहाँ पाया जाता है सहजन यहाँ पाया जाता है सहजन सहजन उत्तरा और दक्षिण भारत में प्रचूर मात्रा में पाया जाता है। दक्षिण भारत में पाए जाने वाले सहजन के पेड़ से पूरे साल फलियाँ उपलब्ध होतीं हैं। जबकि उत्तर भारत में इसका पेड़ साल में एक ही बार फलियाँ देता है। सहजन उत्तरा और दक्षिण भारत में प्रचूर मात्रा में पाया जाता है। दक्षिण भारत में पाए जाने वाले सहजन के पेड़ से पूरे साल फलियाँ उपलब्ध होतीं हैं। जबकि उत्तर भारत में इसका पेड़ साल में एक ही बार फलियाँ देता है।

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

अगला: सहजन एक नाम अनेक सहजन एक नाम अनेक सहजन का बोटेनिकल नाम 'मोरिगो ओलिफेरा' (Morigo Orifera) है। हिंदी में इसे सहजन, सुजना, सेंजन और मूंगा नाम से भी जाना जाता है। इसके पौधे की ऊंचाई 10 मीटर होती है। सहजन का बोटेनिकल नाम 'मोरिगो ओलिफेरा' (Morigo Orifera) है। हिंदी में इसे सहजन, सुजना, सेंजन और मूंगा नाम से भी जाना जाता है। इसके पौधे की ऊंचाई 10 मीटर होती है।

Find out More