श्रीलंका ने हंबनटोटा एयरपोर्ट का संचालन भारत और रूस को सौंपा, जानें क्यों है महत्वपूर्ण!

hAFUBAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAALwGsYoAAaRlbhAAAAAASUVORK5CYII= श्रीलंका ने हंबनटोटा एयरपोर्ट का संचालन भारत और रूस को सौंपा, जानें क्यों है महत्वपूर्ण!

श्रीलंका ने हंबनटोटा एयरपोर्ट का संचालन भारत और रूस को सौंपा’ जानें क्यों है महत्वपूर्ण! | Sri Lanka handed over the operation of Hambantota airport to India and Russia, know why it is important!

श्रीलंका कैबिनेट के अनुसार, श्रीलंका सरकार हंबनटोटा के मट्टाला अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का संचालन भारत और रूस के संयुक्त उपक्रम को सौंप दिया गया है। यह मट्टाला एयरपोर्ट 2013 में महिंद्रा राजपक्षे की सरकार के समय बनाया गया था। चीन की कंपनियों ने चीन से कर्ज लेकर ही यह एयरपोर्ट बनाया था। यह एयरपोर्ट श्रीलंका के तटीय शहर हंबनटोटा से 18 कि0मी0 दूर मट्टाला शहर में स्थित है। हंबनटोटा बंदरगाह को श्रीलंका की सरकार ने 99 वर्षों के लिए चीन को लीज पर दिया हुआ है। इसके बावजूद इस एयरपोर्ट के संचालन का जिम्मा भारतीय कंपनी को मिलना एक सकारात्मक संकेत है। 

श्रीलंका के विमानन मंत्री निमल सिरिपाला डी सिल्वा ने बुधवार को बयान दिया और कहा कि हंबनटोटा में घाटे में चल रहे मट्टाला अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के संचालन का काम अगले कुछ दिनों.में भारत-रूस के संयुक्त उपक्रम को सौंप दिया जायेगा। इससे पहले अप्रैल में हंबनटोटा में मट्टाला अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के प्रबंधन का कार्य श्रीलंका ने भारत और रूस के संयुक्त उपक्रम को सौंप दिया था। उन्होंने बताया कि मंत्रिमंडल द्वारा नियुक्त परामर्शदात्री समिति ने भारत की शौर्य एयरोनॉटिक्स (प्राइवेट) लिमिटेड और रूस की एयरपोर्ट्स ऑफ रीजन्स मैनेजमेंट कंपनी को 30 वर्ष की अवधि का प्रबंधन अनुबंध देने का निर्णय लिया था। 

क्या है कारण?

मट्टाला राजापक्षे इंटरनेशनल एयरपोर्ट का निर्माण साल 2013 में हुआ था। इस एयरपोर्ट के लिए वित्तीय मदद चीन के एक्सिम बैंक द्वारा प्रदान की गयी। इसके निर्माण में 209 मिलियन अमरीकी डॉलर की लागत आने का अनुमान है, जिसमें से लगभग 190 मिलियन अमरीकी डॉलर चीनी ऋण से है। श्रीलंका पहले ही अपने हंबनटोटा बंदरगाह को चीन को 99 वर्षों की लीज पर दे चुका है। अब वो इस गलती को दोबारा दोहराकर अपने नागरिकों और राजनीतिक विपक्षी दलों को फिर से नाराज नहीं करना चाहता।

क्यों है महत्वपूर्ण?

भारत अपने पडोसी देशों के लिए मदद के लिए हमेशा तैयार रहता है। ऐसा ही 2022 में श्रीलंका के सबसे खराब आर्थिक संकट के समय भारत ने यथासंभव मदद पहुँचाकर किया। श्रीलंका से भारत की दूरी मात्र 31 कि0मी0 ही है। सैन्य गतिविधियों के हिसाब से श्रीलंका भारत के बिलकुल नजदीक है। ऐसे में वहां होने वाली गतिविधियों का सीधा असर भारत पर पड़ेगा। इसलिए भारत इस मुद्दे को बड़ी गंभीरता से सुलझाने की कोशिशें कर रहा है।   

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
bharat-ke-up-pradhanmantri

भारत के उप प्रधानमंत्री – Deputy Prime Ministers of India

भारत के उप-राष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के उपराष्ट्रपति – Vice Presidents of India

pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
Happy Birthday PV Sindhu

पी० वी० सिंधु – P V Sindhu : जन्मदिन विशेष

Next Post
ताजा खबर - Latest News

ताजा खबर – Latest News

Related Posts
Total
0
Share