अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस – International Mother Language Day

hAFUBAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAALwGsYoAAaRlbhAAAAAASUVORK5CYII= अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस - International Mother Language Day

21 फरवरी को पूरी दुनिया में ‘अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। दुनिया में भाषा और सांस्कृतिक विविधता को बढ़ावा देना इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य है, लेकिन इस दिन को मनाने की शुरुआत कैसे हुई और इस बार अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस किस थीम के साथ मनाया जा रहा है, इसके बारे में आप इस लेख में जानेंगे।

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस की शुरुआत कैसे हुई?

यह दिन बांग्लादेश द्वारा अपनी मातृभाषा की रक्षा के लिए किए गए लंबे संघर्ष की याद में मनाया जाता है। वर्ष 1952 में ढाका विश्वविद्यालय के छात्रों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने बंगाली मातृभाषा के अस्तित्व के लिए विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। देखते ही देखते यह प्रदर्शन नरसंहार में बदल गया। इसे रोकने के लिए तत्कालीन पाकिस्तान सरकार की पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चला दीं, जिससे कई और लोगों की जान चली गई। बांग्लादेश सरकार के अस्तित्व में आने के बाद बांग्लादेश सरकार ने यूनेस्को के सामने एक प्रस्ताव रखा। यूनेस्को ने वर्ष 1999 में पहली बार अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाने की घोषणा की थी, लेकिन इसे पहली बार वर्ष 2000 में मनाया गया।

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस का उद्देश्य
लोगों के बीच भाषाओं के प्रति प्रेम, संरक्षण और संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए यह दिन मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस 2024 की थीम

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस 2024 का विषय है “बहुभाषी शिक्षा अंतर-पीढ़ीगत शिक्षा का एक स्तंभ है” । यह विषय अंतरपीढ़ीगत शिक्षा को बढ़ावा देने में बहुभाषी शिक्षा के महत्व पर जोर देता है।

हिंदी भारत में सबसे अधिक बोली जाने वाली मातृभाषा है

भारत में 19 हजार से अधिक मातृभाषाएँ हैं। 2011 की जनगणना रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 43.63 प्रतिशत लोग हिंदी को अपनी मातृभाषा मानते हैं। दूसरे स्थान पर बांग्ला और तीसरे स्थान पर मराठी भाषा है। गैर-सूचीबद्ध भाषाओं की बात करें तो इस सूची में राजस्थान में बोली जाने वाली भीली पहले स्थान पर आती है जबकि गोंडी भाषा दूसरे स्थान पर आती है।

भारतीय संविधान 22 आधिकारिक भाषाओं को मान्यता देता है। 

  1. बंगाली
  2. हिंदी
  3. मैथिली
  4. नेपाली
  5. संस्कृत
  6. तमिल
  7. उर्दू
  8. असमिया
  9. डोगरी
  10. कन्नड़
  11. गुजराती
  12. बोडो
  13. मणिपुर (जिसे मैतेई भी कहा जाता है)
  14. उड़िया
  15. मराठी
  16. संताली
  17. तेलुगु
  18. पंजाबी
  19. सिंधी
  20. मलयालम
  21. कोंकणी
  22. कश्मीरी

अन्य रोचक भारतीय भाषा तथ्य

  • हिंदी दुनिया में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है। बांग्ला भी दुनिया में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है।
  • भारत की कोई राष्ट्रभाषा नहीं है। आजादी के बाद, बोलने वाले हजारों लोगों में से किसी एक को चुनना बहुत कठिन हो गया।
  • अंग्रेजी में भारतीय मूल के कई शब्द हैं जिनमें शामिल हैं; डंगरी, अवतार, जंगल, टैंक, शैम्पू, रोटी, डोंगी, चटनी और नेवला।
  • तेलुगु एक भारतीय भाषा है जिसे ‘पूर्व की इटालियन’ कहा जाता है।
  • हिंदी को इसका नाम फ़ारसी शब्द हिंद से मिला है, जिसका अर्थ है ‘सिंधु नदी की भूमि’।
  • संस्कृत, उर्दू, नेपाली, बंगाली और गुजराती सभी में हिंदी के साथ कुछ समानताएं हैं, या तो बोली जाने वाली भाषा में या लिखित लिपि में।
  • मलयालम, दक्षिण भारतीय राज्य केरल में बोली जाने वाली भाषा, अंग्रेजी भाषा में सबसे लंबी पैलिंड्रोम है।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
भारत के उप-राष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के उपराष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के राष्ट्रपति | President of India

भारत के राष्ट्रपति : संवैधानिक प्रमुख 

bharat-ke-up-pradhanmantri

भारत के उप प्रधानमंत्री — Deputy Prime Ministers of India

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
भारत की टाटा कंपनी ने पाकिस्तान को पीछे छोड़ा 

भारत की टाटा कंपनी ने पाकिस्तान को पीछे छोड़ा 

Next Post
जल्द आने वाली है भूल भुलैया 3 - Bhool Bhulaiyaa 3 coming soon

जल्द आने वाली है भूल भुलैया 3 – Bhool Bhulaiyaa 3 coming soon

Related Posts
Total
0
Share