सिस्टर निवेदिता – Sister Nivedita जयंती विशेष: 28 अक्टूबर 

सिस्टर निवेदिता - Sister Nivedita जयंती विशेष: 28 अक्टूबर 
➤सिस्टर निवेदिता (या भगिनी निवेदिता), जिनका जन्म नाम मार्गरेट एलिजाबेथ नोबल था, स्वामी विवेकानन्द की शिष्या थीं।
➤ मैरी इसाबेल और सैमुअल रिचमंड नोबल उनके माता-पिता थे।
➤वर्ष 1895 में, वह लंदन में स्वामी विवेकानन्द से मिलीं और वेदांत और भारत की आध्यात्मिक विरासत पर उनकी शिक्षाओं से गहराई से प्रभावित हुईं।

सिस्टर निवेदिता (या भगिनी निवेदिता), जिनका जन्म नाम मार्गरेट एलिजाबेथ नोबल था, स्वामी विवेकानन्द की शिष्या थीं। मूल रूप से आयरलैंड निवासी सिस्टर निवेदिता विशेष रूप से भारत में अपने काम के लिए जानी जाती हैं। उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनका जीवन और कार्य भारत और उसके बाहर भी कई लोगों को प्रेरित करता है।

जन्म व गुरु (Swami Vivekanand) का सानिध्य

सिस्टर निवेदिता का जन्म 28 अक्टूबर, 1867 में आयरलैंड के डुंगानोन में मार्गरेट एलिजाबेथ नोबल के रूप में हुआ था। मैरी इसाबेल और सैमुअल रिचमंड नोबल उनके माता-पिता थे। मार्गरेट नोबल की आध्यात्मिक यात्रा उनके प्रारंभिक वर्षों में शुरू हुई। किन्तु स्वामी विवेकानंद से एक मुलाकात ने उनके जीवन की दिशा बदल दी। वर्ष 1895 में, वह लंदन में स्वामी विवेकानन्द से मिलीं और वेदांत और भारत की आध्यात्मिक विरासत पर उनकी शिक्षाओं से गहराई से प्रभावित हुईं। इस मुलाकात के दौरान स्वामी विवेकानंद ने मार्गरेट नोबल को “निवेदिता” नाम दिया, जिसका अर्थ है “सेवा को समर्पित।” निवेदिता को विवेकानन्द में एक आध्यात्मिक मार्गदर्शक और गुरु मिले।

भारत आगमन 

सन् 1898 में, निवेदिता विविधता और आध्यात्मिकता से भरपूर भूमि भारत पहुंचीं। उन्होंने जल्द ही स्वयं को भारतीय संस्कृति के रंग में रंग लिया। भारतीय परिप्रेक्ष्य में उनका योगदान स्मरणीय है। बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में बांग्ला विभाग के पूर्व अध्यक्ष अमरनाथ गांगुली के अनुसार, “सिस्टर निवेदिता में एक आग थी और स्वामी विवेकानंद ने उस आग को पहचाना”। 

भगिनी निवेदिता का योगदान

शिक्षा के क्षेत्र में: भगिनी निवेदिता का एक महत्वपूर्ण योगदान शिक्षा के क्षेत्र में था। उन्होंने कलकत्ता में लड़कियों के लिए एक स्कूल की स्थापना की, जिसका उद्देश्य न केवल शैक्षणिक ज्ञान प्रदान करना था अपितु राष्ट्रीय गौरव और चरित्र की भावना भी पैदा करना था।

भारतीय स्वाधीनता आंदोलन में: भगिनी निवेदिता ने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन का सक्रिय समर्थन किया। भारत की आज़ादी के लिए उनका जुनून अटूट था और उनके लेखन और भाषणों ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ जनमत जुटाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने अपने व्याख्यानों के माध्यम से कई युवाओं को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़ने के लिए प्रेरित किया। 
उनके साथ संपर्क रखने वाले प्रमुख लोगों में गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर, महात्मा गाँधी, वैज्ञानिक जगदीश चन्द्र बसु, शिल्पकार हैमेल तथा अवनीन्द्रनाथ ठाकुर और चित्रकार नंदलाल बोस,आदि थे।  उन्होंने रमेशचन्द्र दत्त और यदुनाथ सरकार को भारतीय नजरिए से इतिहास लिखने की प्रेरणा दी। 

सांस्कृतिक योगदान: उन्होंने भारतीय इतिहास, संस्कृति और विज्ञान को बढ़ावा देने में सक्रिय रुचि ली। उन्होंने भारतीय वैज्ञानिक और दार्शनिक डॉ. जगदीश चंद्र बोस को मौलिक वैज्ञानिक अनुसंधान करने के लिए सक्रिय रूप से प्रोत्साहित किया और औपनिवेशिक सरकार से सहयोग न मिलने पर उन्हें उचित मान्यता दिलाने में आर्थिक रूप से भी मदद की।

देहावसान और विरासत 

सिस्टर निवेदिता का निधन 13 अक्टूबर, 1911 को, 43 वर्ष की आयु में, रॉय विला, दार्जिलिंग में हो गई। आज, उनका स्मारक विक्टोरिया फॉल्स (दार्जिलिंग के) के रास्ते में रेलवे स्टेशन के नीचे स्थित है उनके समाधिलेख में ये शब्द अंकित हैं – “यहां सिस्टर निवेदिता हैं जिन्होंने अपना सब कुछ भारत को दे दिया”।

उनका स्कूल 21वीं सदी की शुरुआत में वर्तमान कोलकाता में रामकृष्ण सारदा मिशन (1897 में विवेकानंद द्वारा स्थापित रामकृष्ण मिशन का एक सहयोगी संगठन) के प्रबंधन के तहत चल रहा है।

भगिनी निवेदिता का व्यक्तित्व बहुआयामी था। उन्होंने भारतीय लोगों के कल्याण और महिलाओं की शिक्षा और सशक्तिकरण के लिए कड़ी मेहनत की। उन्होंने अकादमिक पाठ्यक्रम में कला, हस्तशिल्प पर नए विचारों का समावेश किया।

सिस्टर निवेदिता की विरासत कई रूपों में कायम है। भारतीय संस्कृति, धर्म और दर्शन पर उनकी किताबें और लेख ज्ञान और प्रेरणा का स्रोत बने हुए हैं। 

भगिनी निवेदिता द्वारा प्रतिपादित ग्रन्थावली (Bibliography propounded by Sister Nivedita)

  • काली द मदर (Kali the Mother)
  • द वेब ऑफ इन्डियन लाइफ (The Web of Indian Life)
  • क्रेडिल टेल्स ऑफ हिन्दुइज्म (Cradle Tales of Hinduism)
  • एन इन्डियन स्टडी ऑफ लाइफ एन्ड डेथ (An Indian study of love and death)
  • सिलेक्ट एस्सेज ऑफ सिस्टर निवेदिता (Select essays of Sister Nivedita)
  • स्टडीज फ्राम एन इस्टर्न होम (Studies from an Eastern Home)
  • मिथ्स ऑफ हिन्दूज एन्ड बुद्धिस्टस (Myths of Hindus and Buddhists)
  • फुटफाल्स ऑफ इन्डियन हिस्ट्री (Footfalls of Indian history)
  • रिलिजन एन्ड धर्म (Religion and Dharma)
  • सिविक एन्ड नेशनल आइडियल्स् (Civic & national ideals)
  • src: wiki

सिस्टर निवेदिता (Sister Nivedita) को और किस नाम से जाना जाता है?

भगिनी निवेदिता

भगिनी निवेदिता कौन थीं?

सिस्टर निवेदिता स्वामी विवेकानन्द की शिष्या थीं।

सिस्टर निवेदिता का मूल रूप से कहाँ की थीं?

Ireland

भगिनी निवेदिता का मूल नाम क्या था?

मार्गरेट एलिजाबेथ नोबल

➤Sister Nivedita (or Sister Nivedita), born Margaret Elizabeth Noble, was a disciple of Swami Vivekananda.
➤ Mary Isabel and Samuel Richmond Noble were his parents.
➤In the year 1895, she met Swami Vivekananda in London and was deeply influenced by his teachings on Vedanta and the spiritual heritage of India.

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

bharat-ke-up-pradhanmantri

भारत के उप-प्रधानमंत्री — Deputy Prime Ministers of India

AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC भारत के प्रधानमंत्री - Prime Minister of India

भारत के प्रधानमंत्री – Prime Minister of India

AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

Total
0
Shares
Previous Post
चंद्र ग्रहण - Chandra Grahan 2023: जानें सूतक काल लगेगा या नहीं

चंद्र ग्रहण – Chandra Grahan 2023: जानें सूतक काल लगेगा या नहीं

Next Post
सफ़ेद बालों को काला करने के घरेलू उपाय

सफ़ेद बालों को काला करने के घरेलू उपाय

Related Posts
Total
0
Share
रणदीप हुडा & लिन लैशराम शादी की शॉपिंग कहाँ से करें? यामी गौतम की टॉप 10 फ़िल्में Top 10 Movies of Akkineni Naga Chaitanya कार्तिक आर्यन की टॉप 10 फ़िल्में