10 दिन बाद कोर्ट परिसर में फिर दिखा तेंदुआ, अदालत को किया गया बंद

Leopard tendua in Ghaziabad
Leopard in Ghaziabad

गाज़ियाबाद के कोर्ट परिसर में एक बार फिर से तेंदुए को देखा गया है। इस बार तेंदुए की झलक कोर्ट परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद की गई है। इसके बाद एहतियात बरतते हुए कोर्ट परिसर को खाली कराने के बाद इसे बंद करा दिया गया है। इसके बाद वन विभाग और पुलिस की टीम ने एक्शन में आते हुए कांबिंग शुरू कर दी है। 10 दिन पहले भी कोर्ट परिसर में तेंदुआ देखा गया था लेकिन देर रात को उसे पकड़ कर सहारनपुर छोड़ दिया गया था।

घटना को 10 दिन का समय बीतने पर आस – पास के लोगों ने राहत की सांस ली थी। लेकिन 10 दिन बाद कोर्ट परिसर में तेंदुए की आहत ने एक बार फिर लोगों को बुरी तरह से डरा दिया है। हालांकि शाम तक अधिकारियों ने इस खबर को अफवाह करार दिया था। इसके बाद गुरुवार की सुबह कोर्ट परिसर अपने टाइम पर ही खुला था। लेकिन इसके बाद कोर्ट परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरे में तेंदुए की झलक दिखने के बाद कोर्ट में हड़कंप मच गया। कोर्ट को तुरंत खाली कराते हुए तमाम एहतियात बरते गए।

सुबह पौने आठ बजे सीसीटीवी में दिखा तेंदुआ
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ कोर्ट के कर्मचारी हमेशा की तरह कोर्ट कॉम्प्लेक्स पहुंचे और उन्होंने अपना सम्बंधित काम शुरू कर दिया। तभी कुछ समय बाद सीसीटीवी रूम से कोर्ट परिसर में तेंदुए के दिखाई देने की बात फेल गई। देखने पर पता चला कि कोर्ट परिसर में मादा तेंदुआ अपने शावक के साथ घूम रही है। यह समय सुबह 7:45 बजे का था। इसे देखते हुए कोर्ट में मौजूद जजों और वादकारियों के बीच हड़कंप मच गया। इसके बाद कोर्ट के अंदर के सभी दरवाज़ों को बंद कर दिया गया।

बार एसोसिएशन के आदेश पर बंद कराया गया कोर्ट
कोर्ट में तेंदुए के घुसने की वजह से परिसर में काफी दहशत फेल गई थी जिसे देखते हुए जिला बार एसोसिएशन ने पत्र जारी करते हुए सभी वकीलों को कोर्ट परिसर से बाहर जाने के लिए कह दिया। इसके साथ ही बार एसोसिएशन ने पत्र जारी करते हुए सभी न्यायिक कार्यों को बंद रखने के आदेश देते हुए सभी दहशतग्रस्त वकीलों को बिना भगदड़ मचाए कोर्ट परिसर से बाहर निकलने की सलाह दी है।

वन विभाग ने शुरू किया सर्च अभियान
कोर्ट में फिर से तेंदुआ घुसने की सूचना मिलने के बाद वन विभाग की 12 सदस्यों की टीम कोर्ट परिसर पहुँची और पहुँचते ही उन्होंने सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया। यह सर्च ऑपरेशन एक घंटे तक चला लेकिन इसके बावजूद भी वन विभाग की टीम तेंदुए को पकड़ पाने में नाकाम रही। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि यह तेंदुआ छत की मुंडेर पर भी छिपा हो सकता है।

आरडीसी में तेंदुए को लेकर मची दहशत
कोर्ट परिसर और आस पास के इलाकों में तेंदुआ घुस आने की वजह से दहशत का माहौल बना हुआ है। आरडीसी और कविनगर के इलाके में रहने वाले लोग बुरी तरह से डरे हुए हैं। इस इलाके में बुधवार की शाम को ही तेंदुआ मिलने की खबर फेल गई थी। इसके बाद अपनी सुरक्षा को तवज्जो देते हुए स्थानीय लोगों ने अपने घर के खिड़की – दरवाज़े बंद कर लिए थे। कुछ लोगों ने अपने घरों के बाहर तेज़ रोशनी वाली लाइटें भी लगवा ली हैं। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले गाज़ियाबाद के मोदी नगर में तेंदुए को घूमते देखा गया था।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें।

देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले पाने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC Mahavir Jayanti 2024: महावीर जयंती का इतिहास और महत्व   

Mahavir Jayanti 2024: महावीर जयंती का इतिहास और महत्व   

Shakeel Badayuni

शकील बदायूनी – Shakeel Badayuni : पुण्यतिथि विशेष

pCWsAAAAASUVORK5CYII= World Earth Day 2024: क्यों मनाया जाता है विश्व पृथ्वी दिवस?  

World Earth Day 2024: क्यों मनाया जाता है विश्व पृथ्वी दिवस?  

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

pCWsAAAAASUVORK5CYII= परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

भारत के राष्ट्रपति | President of India

भारत के राष्ट्रपति : संवैधानिक प्रमुख 

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
सोमवती अमावस्या के दिन आपके जीवन पर भारी पड़ सकती है ये गलती - Somavati Amavasya 2023

सोमवती अमावस्या के दिन आपके जीवन पर भारी पड़ सकती है ये गलती – Somavati Amavasya 2023

Next Post
अल नीनो के प्रभाव से 60 प्रतिशत से भी अधिक रह सकता है सूखा

अल नीनो के प्रभाव से 60 प्रतिशत से भी अधिक रह सकता है सूखा

Related Posts
Total
0
Share