पहला बजट आने के बाद क्यों इतना सतर्क रहती है सरकार – Budget 2023

पहला बजट आने के बाद क्यों इतना सतर्क रहती है सरकार
image source : images1.livehindustan.com

मोदी सरकार जब से सत्ता में आई है तब से बजट पेश करने से सम्बन्धित तमाम नियमों में बदलाव किया गया है। इससे पहले कांग्रेस सरकार सत्ता में काबिज़ थी। उस दौरान बजट पेश करने के तौर तरीके काफी अलग हुआ करते थे। कांग्रेस पार्टी के सत्तारूढ़ होने पर फरवरी माह के अंतिम दिन बजट पेश किया जाता था। लेकिन 2016 में जब से बीजेपी ने देश की बागडोर संभाली है उसके बाद से ही बजट को 1 फरवरी से लागू किया जाने लगा है। इस बार का बजट सरकार के लिए काफी खास होने वाला है क्योंकि यह बजट 2024 के आम चुनावों से पहले लागू होने वाला आखिरी पूर्ण बजट है। ज़ाहिर है कि सरकार आलोचकों की चुनौतियों और लोगों की ज़रूरतों को इस बजट में शामिल करना चाहेगी।

आज सुबह 11 बजे बजट पेश किया जाएगा। लेकिन क्या आप जानते हैं देश का पहला बजट शाम 5 बजे पेश किया गया था। इस दौरान भारत औपनिवेशिक सत्ता की हुकूमत मानने के लिए विवश था। यहीं कारण है देश के पहले बजट को शाम 5 बजे लागू किया था। इस बजट में ब्रिटिश सरकार ने अपनी मनमानी की थी। यह बजट पूर्ण रूप से विवादों से घिरा हुआ था। इस लेख में आगे आपको यह भी जानने को मिलेगा कि इस प्रक्रिया के इर्द गिर्द गोपनीयता का माहौल क्यों रखा जाता है।

भारत के स्वतंत्र होने के उपरांत देश का पहला बजट केंद्रीय वित्त मंत्री सर आरके शनमुखम चेट्टी द्वारा पेश किया गया था। वह कांग्रेस नेता नहीं थे। वह ब्रिटिश सरकार का समर्थन करने वाली जस्टिस पार्टी के नेता थे। वह एक उद्योगपति होने के साथ ही कोचीन राज्य के पूर्व दीवान और चेम्बर ऑफ़ प्रिंसेस के संवैधानिक सलाहकार थे।

पहले बजट में 19739 करोड़ का कुल व्यय निर्धारित किया गया था। इस बजट में 9274 करोड़ रुपय रक्षा बजट के लिए आवंटित किया गया था। इस बजट को शाम 5 बजे पेश किया गया था क्योंकि राजनेता और अधिकारी चाहते थे कि ब्रिटेन में उनके समकक्ष विवरणों का आराम से पालन किया जा सके। भारत में जब शाम 5 बजे बजट पेश किया जाता था तब उस समय ब्रिटेन में दोपहर का समय हुआ करता था।

विवादों से घिरा था पहला बजट
भारत का पहला बजट विवादों में उलझा हुआ था। ब्रिटेन के राजकोष के चांसलर ह्यूग डाल्टन ने लापरवाही से एक पत्रकार को बजट में भारत की तरफ से प्रस्तावित कुछ टैक्स में बदलाव के बारे में जानकारी दे दी। भारतीय संसद में चेट्टी बजट भाषण की शुरुआत करते इससे पहले ही पत्रकार ने बजट की जानकारी मीडिया के माध्यम से जनता को दे दी थी। इस प्रकरण के बाद डाल्टन को इस्तीफा देने के लिए मजबूर होना पड़ा। इसके बाद से गोपनीयता भारतीय बजट को पेश करने के लिए अनिवार्य हो गई।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें।

देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले पाने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC विश्वनाथ प्रताप सिंह - Vishwanath Pratap Singh : जयंती विशेष

विश्वनाथ प्रताप सिंह – Vishwanath Pratap Singh : जयंती विशेष

AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC रानी दुर्गावती - Rani Durgavati

रानी दुर्गावती – Rani Durgavati

r25IQAEAAAAAjwYUHAAB7byaVAAAAABJRU5ErkJggg== ईशा योग केंद्र, कोयंबटूर में एक दिन - A Day in Isha Yoga Center Coimbatore

ईशा योग केंद्र, कोयंबटूर में एक दिन – A Day in Isha Yoga Center Coimbatore

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

Bharatiya Janata Party

भारतीय जनता पार्टी – BJP

bharat-ke-up-pradhanmantri

भारत के उप प्रधानमंत्री – Deputy Prime Ministers of India

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
इतनी इनकम पर देना होगा 20% का भारी भरकम टैक्स

एक और आयकर माफी योजना हो सकती है बजट में शामिल, ऐसे होगा फायदा – Budget 2023

Next Post
थोड़ी सी ज़मीन पर ये काम करने से होगी मोटी कमाई – Business Idea

बजट में मिडल क्लास को बड़ी राहत, 7 लाख तक की इनकम पर नहीं देना होगा टैक्स – Income Tax Slabs Budget 2023

Related Posts
Total
0
Share