अन्ना हज़ारे : जन्मदिन विशेष 

hAFUBAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAALwGsYoAAaRlbhAAAAAASUVORK5CYII= अन्ना हज़ारे : जन्मदिन विशेष 

भारत की राजनीति में आज गांधीवादी व्यक्तित्व वाले बहुत कम लोग रह गए हैं। इनमें प्रमुख नाम अन्ना हजारे का आता है। देश भर में जनलोकपाल आंदोलन के समय मशहूर हुए अन्ना हजारे महाराष्ट्र में बहुत पहले से ही लोकप्रिय हैं। आज 15 जून, उनके जन्मदिन पर जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें। 

  • अन्ना हजारे (किसन बाबूराव हजारे) का जन्म 15 जून 1937 को महाराष्ट्र के अहमदनगर के रालेगन सिद्धि गाँव के एक मराठा किसान परिवार में हुआ था।
  • उनके पिता का नाम बाबूराव हजारे और माँ का नाम लक्ष्मीबाई हजारे था।
  • उनके पिता मजदूर थे तथा दादा सेना में थे।
  • वर्ष 1962 में भारत-चीन युद्ध के बाद सरकार की युवाओं से सेना में शामिल होने की अपील पर अन्ना 1963 में सेना की मराठा रेजीमेंट में ड्राइवर के रूप में भर्ती हो गए।

घटना जिसने बदला जीवन 

1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान अन्ना हजारे खेमकरण सीमा पर नियुक्त थे। १२ नवम्बर 1965 को चौकी पर पाकिस्तानी हवाई बमबारी में वहाँ तैनात सारे सैनिक मारे गए। इस घटना ने अन्ना के जीवन को सदा के लिए बदल दिया। इसके बाद उन्होंने सेना में 13  और वर्षों तक काम किया। युद्धकाल और गरीबी के अनुभवों ने उन्हें प्रभावित किया। उन्होंने एक बिंदु पर आत्महत्या पर विचार किया, लेकिन जीवन और मृत्यु के अर्थ पर विचार करने लगे।

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के एक बुक स्टैंड पर, उन्हें स्वामी विवेकानंद की पुस्तिका “राष्ट्र निर्माण के लिए युवाओं का आह्वान” मिली, जिसने उन्हें गहराई से सोचने के लिए प्रेरित किया।

उन्होंने ट्रक हमले के बारे में कहा, “इसने घटना ने मुझे सोच में डाल दिया। मुझे लगा कि भगवान चाहते हैं कि मैं किसी कारण से जीवित रहूं। मेरा खेम करण के युद्ध के मैदान में पुनर्जन्म हुआ। और मैंने लोगों की सेवा करने के लिए अपना नया जीवन समर्पित करने का फैसला किया।”

उन्होंने अपना खाली समय स्वामी विवेकानंद, गांधी और विनोबा भावे की रचनाओं को पढ़ने में बिताया।

सामाजिक कार्य 

अन्ना हजारे ने अपनी जमीन बच्चों के हॉस्टल के लिए दान कर दी और स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति के बाद जो पैसा उन्हें पेंशन के जरिए मिलता था उसे भी गांव के विकास में लगा दिया। इस प्रयास के लिए उन्होंने ‘पद्मश्री’ और ‘पद्मभूषण’ सम्मान से अलंकृत किया जा चुका है।

भ्रष्टाचार के विरुद्ध आंदोलन 

1991 में हजारे ने रालेगांव सिद्धि में भ्रष्टाचार विरोधी जन आंदोलन की शुरुआत की।

उसी वर्ष उन्होंने 40 वन अधिकारियों और लकड़ी व्यापारियों के बीच मिलीभगत का विरोध किया। इस विरोध के परिणामस्वरूप इन अधिकारियों का तबादला और निलंबन हुआ।

1991 में अन्ना हजारे ने महाराष्ट्र में शिवसेना-भाजपा की सरकार के कुछ ‘भ्रष्ट’ मंत्रियों को हटाए जाने की माँग को लेकर भूख हड़ताल की। ये मंत्री थे- शशिकांत सुतर, महादेव शिवांकर और बबन घोलाप। अन्ना ने उन पर आय से अधिक संपत्ति रखने का आरोप लगाया था। इसके बाद मंत्रियों को अपने पद से हटा दिया गया था। घोलाप ने अन्ना के खिलाफ़ मानहानि का मुकदमा दायर किया। अन्ना अपने आरोप के समर्थन में न्यायालय में कोई साक्ष्य पेश नहीं कर पाए और उन्हें तीन महीने की जेल हो गई। तत्कालीन मुख्यमंत्री मनोहर जोशी ने उन्हें एक दिन की हिरासत के बाद छोड़ दिया। एक जाँच आयोग ने शशिकांत सुतर और महादेव शिवांकर को निर्दोष बताया।

2000 के दशक की शुरुआत में हजारे ने महाराष्ट्र राज्य में एक आंदोलन का नेतृत्व किया जिसने राज्य सरकार को एक संशोधित महाराष्ट्र सूचना का अधिकार अधिनियम बनाने के लिए बाध्य किया। इस अधिनियम को बाद में केंद्र सरकार द्वारा अधिनियमित सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 (आरटीआई) के लिए आधार दस्तावेज माना गया।

लोकपाल बिल आंदोलन

भारतीय भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन, जिसे लोकप्रिय रूप से अन्ना आंदोलन के नाम से जाना जाता है, पूरे भारत में प्रदर्शनों और विरोध प्रदर्शनों की एक श्रृंखला थी जो 2011 में शुरू हुई थी और इसका उद्देश्य कथित स्थानिक राजनीतिक भ्रष्टाचार के खिलाफ मजबूत कानून और प्रवर्तन स्थापित करना था।

5 अप्रैल 2011 से आंदोलन को गति मिली, जब भ्रष्टाचार विरोधी कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने नई दिल्ली में जंतर मंतर स्मारक पर भूख हड़ताल शुरू की। आंदोलन का उद्देश्य जन लोकपाल विधेयक की शुरूआत के माध्यम से भारत सरकार में भ्रष्टाचार को कम करना था।

इस आंदोलन को टाइम पत्रिका द्वारा “2011 की शीर्ष 10 समाचार कहानियों” में से एक के रूप में नामित किया गया था।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत के प्रधानमंत्री - Prime Minister of India

भारत के प्रधानमंत्री – Prime Minister of India

भारत के उप-राष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के उपराष्ट्रपति – Vice Presidents of India

pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

Total
0
Shares
Previous Post
भारत के प्रसिद्ध ICE CREAM ब्रांड्स

भारत के प्रसिद्ध ICE CREAM ब्रांड्स

Next Post
पाकिस्तानी youtuber ने की “घर वापसी”

पाकिस्तानी youtuber ने की “घर वापसी”

Related Posts
Total
0
Share