Delhi Metro : क्या मेट्रो में बंद होने वाली है टोकन की सुविधा ?

Delhi Metro, Paper Tickets, Metro Token, Delhi Metro Lines, DMRC, metro services, railways, Delhi Metro, Paper Tickets, Delhi Metro lines, Metro token, DMRC
image source : intrepidtravel.com

दिल्ली मेट्रो दिल्ली वालों के लिए किसी लाइफलाइन से कम नहीं है। दिल्ली मेट्रो को अपडेट रखने के लिए डीएमआरसी समय समय पर बदलाव करती रहती है, जिससे यात्रियों को अच्छी सुविधा मुहैया करा सके। मेट्रो की शुरुआत होने से लेकर अब तक मेट्रो ने अपनी कई सुविधाओं में बदलाव किया है। अब दिल्ली मेट्रो ने यात्रियों के लिए टोकन की लाइन में देर तक खड़े रहने के झंझट को दूर करने की ठानी है। इसके लिए दिल्ली मेट्रो द्वारा नई टिकट व्यवस्था की शुरुआत की गई है।

क्यूआर कोड आधारित कागज़ का होगा इस्तेमाल

दिल्ली मेट्रो ने यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए क्यूआर कोड आधारित कागज़ के टोकन की व्यवस्था की शुरुआत की है। क्यूआर कोड आधारित कागज़ के टिकट आप टोकन की लाइन से ही आसानी से खरीद सकते हैं। दिल्ली मेट्रो रेल निगम द्वारा सोमवार को इस व्यवस्था का ऐलान किया गया है। धीरे – धीरे इस व्यवस्था के चलन में आ जाने के बाद टोकन सिस्टम को खत्म कर दिया जाएगा। अभी यात्री अपनी सुविधा के अनुसार दोनों का ही इस्तेमाल कर सकते हैं।

कुछ ज़रूरी नियम

आपको क्यूआर कोड वाले कागज़ से जुड़े कुछ ज़रूरी नियमों के बारे में जान लेना चाहिए। क्यूआर कोड वाला टिकट गंतव्य से पहले बीच यात्रा में किसी स्टेशन पर उतरने के लिए इस्तेमाल में नहीं लाया जा सकता। अगर यात्री को बीच में किसी स्टेशन पर उतरना है तो उसे कस्टमर केयर काउंटर से फ्री एग्ज़िट टिकट लेना होगा।

डीएमआरसी ने ब्यान जारी करते हुए कहा है कि यात्री क्यूआर कोड का इस्तेमाल करते हुए उसी स्टेशन से प्रवेश कर पाएगा जहाँ से उसने क्यूआर कोड आधारित इस टिकट को लिया है। इसके अलावा किसी और स्टेशन से प्रवेश करना वर्जित होगा। डीएमआरसी ने बताया है कि यह टिकट जारी होने पर यात्री को 60 मिनट के भीतर मेट्रो स्टेशन में प्रवेश करना होगा। अगर वह निर्धारित समय में मेट्रो स्टेशन के अंदर प्रवेश नहीं कर पाता तो उसका यह क्यूआर कोड आधारित टिकट अमान्य माना जाएगा।

इसके अलावा अगर यात्री अपने निर्धारित स्टेशन से आगे उतरना चाहेगा तो भी उसके बाहर जाने के लिए एएफसी द्वार नहीं खोला जाएगा। यात्री को पहले किराए के अंतर का भुगतान करना होगा। अधिकारियों ने इस बात को भी स्पष्ट किया है कि क्यूआर कोड आधारित कागज़ की प्रतिलिपि या फोटो मान्य नहीं होगी। जो यात्री ऐसा करते हैं उनसे नियमों के तहत निपटा जाएगा।

डीएमआरसी ने कहा है कि इन अधिक पारदर्शी, मानवरहित और नकदरहित तंत्र को लागू करने के साथ ही धीरे – धीरे टोकन जारी करने के चलन को खत्म कर दिया जाएगा। मेट्रो ने यह भी बताया है कि मेट्रो का लक्ष्य मई के अंत तक मोबाइल आधारित क्यूआर टिकट लाना भी है। फिलहाल यह सुविधा एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर उपलब्ध है। अभी डीएमआरसी का लक्ष्य सभी एएफसी द्वार पर क्यूआर कोड स्केनर की सुविधा यात्रियों को मुहैया कराना है।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
bharat-ke-up-pradhanmantri

भारत के उप प्रधानमंत्री — Deputy Prime Ministers of India

भारत के उप-राष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के उपराष्ट्रपति – Vice Presidents of India

pCWsAAAAASUVORK5CYII= परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
Ranjana Gurudatta | Sirsaganj | RDGS

UP Nikay Chunav 2023 : सिरसागंज में लहराया भाजपा का परचम, रंजना डॉ गुरुदत्त ने हासिल की प्रचंड जीत

Next Post
कर्नाटक में यहाँ हुआ सबसे ज़्यादा मतदान, किसके सिर पर सजेगा ताज ?

कर्नाटक में यहाँ हुआ सबसे ज़्यादा मतदान, किसके सिर पर सजेगा ताज ?

Related Posts
Total
0
Share