वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का पूरा बजट भाषण 2024 पढ़ें

hAFUBAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAALwGsYoAAaRlbhAAAAAASUVORK5CYII= वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का पूरा बजट भाषण 2024 पढ़ें

Interim Budget 2024-2025 Speech of Nirmala Sitharaman, Minister of Finance presented on February 1, 2024.

माननीय अध्यक्ष,

मैं 2024-25 के लिए अंतरिम बजट पेश करती हूं।

परिचय

पिछले दस वर्षों में भारतीय अर्थव्यवस्था में गहरा सकारात्मक परिवर्तन देखा गया है। भारत के लोग आशा और आशावाद के साथ भविष्य की ओर देख रहे हैं।

लोगों के आशीर्वाद से, जब माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी और गतिशील नेतृत्व में हमारी सरकार ने 2014 में सत्ता संभाली, तो देश भारी चुनौतियों का सामना कर रहा था। ‘सबका साथ, सबका विकास’ को अपने ‘मंत्र’ के रूप में लेते हुए, सरकार ने उन चुनौतियों पर सही मायने में काबू पाया, संरचनात्मक सुधार किये गये। जन-हितैषी कार्यक्रम तैयार किये गये और उन्हें तुरंत क्रियान्वित किया गया।

रोजगार और उद्यमिता के अधिक अवसरों के लिए परिस्थितियाँ बनाई गईं। अर्थव्यवस्था को नई ताकत मिली। विकास का फल बड़े पैमाने पर लोगों तक पहुंचने लगा। देश को उद्देश्य और आशा की एक नई भावना मिली। स्वाभाविक रूप से, लोगों ने सरकार को बड़े जनादेश का आशीर्वाद दिया।

दूसरे कार्यकाल में, माननीय प्रधान मंत्री के नेतृत्व में हमारी सरकार ने सभी लोगों और सभी क्षेत्रों के व्यापक विकास के साथ एक समृद्ध देश बनाने की अपनी जिम्मेदारियों को दोगुना कर दिया। हमारी सरकार ने ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ के अपने ‘मंत्र’ को मजबूत किया। हमारे विकास दर्शन में समावेशिता के सभी तत्व शामिल हैं, अर्थात्, समाज के सभी वर्गों के कवरेज के माध्यम से सामाजिक समावेशन, और देश के सभी क्षेत्रों के विकास के माध्यम से भौगोलिक समावेशन।

‘सबका प्रयास’ के ‘संपूर्ण राष्ट्र’ दृष्टिकोण के साथ, देश ने सदी में एक बार आने वाली महामारी की चुनौती पर काबू पाया, ‘आत्मनिर्भर भारत’ की दिशा में लंबे कदम उठाए, ‘पंच प्रण’ के लिए प्रतिबद्ध हुए और अमृत काल’ के लिए ठोस नींव रखी। परिणामस्वरूप, हमारे युवा देश में उच्च आकांक्षाएं, अपने वर्तमान पर गर्व और उज्ज्वल भविष्य के लिए आशा और विश्वास है। हम उम्मीद करते हैं कि हमारी सरकार को उसके शानदार काम के आधार पर जनता एक बार फिर शानदार जनादेश देगी।

समावेशी विकास एवं उन्नति

विकास के प्रति हमारा मानवीय और समावेशी दृष्टिकोण ‘ग्राम स्तर तक प्रावधान’ के पहले के दृष्टिकोण से एक स्पष्ट और जानबूझकर किया गया प्रस्थान है। पिछले दस वर्षों में विकास कार्यक्रमों ने ‘सभी के लिए आवास’, ‘हर घर जल’, सभी के लिए बिजली, सभी के लिए रसोई गैस, सभी के लिए बैंक खाते और रिकॉर्ड समय में वित्तीय सेवाओं के माध्यम से प्रत्येक घर और व्यक्ति को लक्षित किया है।

80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन से भोजन की चिंता दूर हुई है। ‘अन्नदाता’ की उपज के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य समय-समय पर उचित रूप से बढ़ाया जाता है। इनसे और बुनियादी आवश्यकताओं के प्रावधान से ग्रामीण क्षेत्रों में वास्तविक आय में वृद्धि हुई है। उनकी आर्थिक ज़रूरतों को पूरा किया जा सकता है, जिससे विकास को बढ़ावा मिलेगा और नौकरियाँ पैदा होंगी।

सामाजिक न्याय

हमारी सरकार विकास के दृष्टिकोण के साथ काम कर रही है जो सर्वांगीण, सर्वव्यापी और सर्व-समावेशी (सर्वांगीण, सर्वस्पर्शी और सर्वसमावेशी) है। इसमें सभी जातियों और सभी स्तरों के लोगों को शामिल किया गया है। हम 2047 तक भारत को ‘विकसित भारत’ बनाने के लिए काम कर रहे हैं। उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, हमें लोगों की क्षमता में सुधार करना होगा और उन्हें सशक्त बनाना होगा।

पहले, सामाजिक न्याय अधिकतर एक राजनीतिक नारा था। हमारी सरकार के लिए सामाजिक न्याय एक प्रभावी और आवश्यक शासन मॉडल है। सभी पात्र लोगों को शामिल करने का संतृप्ति दृष्टिकोण सामाजिक न्याय की सच्ची और व्यापक उपलब्धि है। यह कार्रवाई में धर्मनिरपेक्षता है, भ्रष्टाचार को कम करता है, और भाई-भतीजावाद को रोकता है। इसमें पारदर्शिता है और इस बात का आश्वासन है कि लाभ सभी पात्र लोगों तक पहुंचाया जाएगा। संसाधनों का उचित वितरण किया जाता है। सभी को, उनकी सामाजिक प्रतिष्ठा की परवाह किए बिना, अवसरों तक पहुँच मिलती है। हम प्रणालीगत असमानताओं को संबोधित कर रहे हैं जिसने हमारे समाज को त्रस्त कर दिया है। हम परिणामों पर ध्यान केंद्रित करते हैं न कि परिव्यय पर ताकि सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन हासिल किया जा सके।

जैसा कि हमारे प्रधान मंत्री का दृढ़ विश्वास है, हमें चार प्रमुख जातियों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है। वे हैं, ‘गरीब’ (गरीब), ‘महिलाएं’ (महिलाएं), ‘युवा’ (युवा) और ‘अन्नदाता’ (किसान)। उनकी जरूरतें, उनकी आकांक्षाएं और उनका कल्याण हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। वे आगे बढ़ते हैं तो देश आगे बढ़ता है। इन चारों को अपने जीवन को बेहतर बनाने की तलाश में सरकारी सहायता की आवश्यकता है और प्राप्त भी होती है। उनका सशक्तिकरण और कल्याण देश को आगे बढ़ाएगा।

निर्धन कल्याण, देश का कल्याण

हम गरीबों को सशक्त बनाने में विश्वास करते हैं। अधिकारों के माध्यम से गरीबी से निपटने के पहले के दृष्टिकोण के परिणाम बहुत मामूली थे। जब गरीब विकास प्रक्रिया में सशक्त भागीदार बनते हैं, तो उन्हें सहायता देने की सरकार की शक्ति भी कई गुना बढ़ जाती है। इन 10 वर्षों में ‘सबका साथ’ के उद्देश्य से सरकार ने 25 करोड़ लोगों को बहुआयामी गरीबी से मुक्ति दिलाने में मदद की है। हमारी सरकार के प्रयास अब ऐसे सशक्त लोगों की ऊर्जा और जुनून के साथ जुड़ रहे हैं। यह वास्तव में उन्हें गरीबी से ऊपर उठा रहा है।

पीएम-जन धन खातों का उपयोग करके सरकार से `34 लाख करोड़ के ‘प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण’ से बचत हुई है। सरकार के लिए 2.7 लाख करोड़ रु. इसे पहले प्रचलित लीकेज से बचने के माध्यम से महसूस किया गया है। बचत से ‘गरीब कल्याण’ के लिए अधिक धनराशि उपलब्ध कराने में मदद मिली है।

पीएम-स्वनिधि ने 78 लाख स्ट्रीट वेंडरों को ऋण सहायता प्रदान की है। उस कुल में से, 2.3 लाख को तीसरी बार क्रेडिट प्राप्त हुआ है।

पीएम-जनमन योजना विशेष रूप से कमजोर आदिवासी समूहों तक पहुंचती है, जो अब तक विकास के दायरे से बाहर हैं। पीएम-विश्वकर्मा योजना 18 व्यवसायों में लगे कारीगरों और शिल्पकारों को अंत तक सहायता प्रदान करती है। दिव्यांगों और ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के सशक्तिकरण की योजनाएं किसी को भी पीछे न छोड़ने के हमारी सरकार के दृढ़ संकल्प को दर्शाती हैं।

आगे पढ़ें ↓

https://www.indiabudget.gov.in/doc/Budget_Speech.pdf

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत के प्रधानमंत्री - Prime Minister of India

भारत के प्रधानमंत्री – Prime Minister of India

भारत के उप-राष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के उपराष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के राष्ट्रपति | President of India

भारत के राष्ट्रपति : संवैधानिक प्रमुख 

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
परीक्षा पे चर्चा 2024 : मोदी ने छात्रों को दिए सफलता के 10 मंत्र

परीक्षा पे चर्चा 2024 : मोदी ने छात्रों को दिए सफलता के 10 मंत्र

Next Post
बजट 2024 की प्रमुख बातें

बजट 2024 की प्रमुख बातें

Related Posts
Total
0
Share