काकोरी कांड – Kakori Kand

Kakori Kand
Kakori Kand

काकोरी कांड, सन् 1925 में भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान घटित एक घटना थी। इसे काकोरी ट्रेन डकैती के नाम से भी जाना जाता है। ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से आजादी के लिए भारत की लड़ाई के इतिहास में, काकोरी षड्यंत्र (Kakori Conspiracy) का गहरा महत्व है।

इसमें राम प्रसाद बिस्मिल के नेतृत्व में हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन (एचआरए) से जुड़े क्रांतिकारी शामिल थे, जिन्होंने सरकारी धन ले जाने वाली ट्रेन को लूटने का प्रयास किया था। इसका उद्देश्य ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ अपनी क्रांतिकारी गतिविधियों के लिए धन जुटाना था। हालाँकि यह प्रयास विफल रहा, लेकिन यह भारत के स्वतंत्रता संग्राम में एक महत्वपूर्ण घटना बन गई। इस घटना को हिन्दुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के सदस्यों ने इस घटना को अंजाम दिया था।

अब उत्तर प्रदेश सरकार ने ‘काकोरी कांड’ का नाम बदलकर ‘काकोरी ट्रेन एक्शन’ कर दिया है।

तत्कालीन समय में इस घटना की महत्ता इसी बात से समझी जा सकती है कि इस घटना के ऊपर शहीद-ए-आज़म भगत सिंह ने भी काफी विस्तार से लिखा है। उन दिनों छपने वाली पंजाबी पत्रिका किरती में भगत सिंह ने एक सीरीज़ शुरू की थी, जिसमें वो काकोरी कांड के हीरो के विषय में पंजाबी भाषा में लिखा करते थे।

काकोरी ट्रेन डकैती – Kakori Train Action

20वीं सदी की शुरुआत में भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्त कराने के उद्देश्य से क्रांतिकारी गतिविधियों में वृद्धि दिखनी शुरू हुई। इस उत्साह के बीच, राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाकुल्ला खान, चन्द्रशेखर आज़ाद और अन्य जैसे प्रमुख क्रांतिकारियों के नेतृत्व में हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन (एचआरए) ने अपने आंदोलन को वित्त पोषित करने के लिए नए तरीकों की तलाश की।

क्रांतिकारियों के एक समूह ने लखनऊ के पास एक छोटे से शहर काकोरी में एक ट्रेन को लूटने की योजना बनाई। उनका लक्ष्य ब्रिटिश सरकार का धन ले जाने वाली ट्रेन को लूटना था। इस साहसिक कार्य के पीछे प्राथमिक उद्देश्य उनकी क्रांतिकारी गतिविधियों के लिए संसाधन प्राप्त करना था।

9 अगस्त, 1925 की रात को इस घटनाक्रम को अंजाम दिया गया। उस रात, आम यात्रियों के भेष में सशस्त्र क्रांतिकारियों ने ट्रेन रोकी, उसका खजाना लूट लिया और ब्रिटिश प्रशासन के लिए आवंटित धन को अपने अधीन लेना चाहा। हालाँकि, योजना उम्मीद के मुताबिक सामने नहीं आई और अधिकारियों ने तुरंत हस्तक्षेप किया। घटनाओं की एक श्रृंखला के कारण काकोरी एक्शन में शामिल कई क्रांतिकारियों को पकड़ लिया गया।

डकैती की योजना राम प्रसाद बिस्मिल और अशफाक उल्ला खान ने बनाई थी। इसे बिस्मिल, खान, चन्द्रशेखर आजाद, राजेंद्र लाहिड़ी, शचींद्र बख्शी, केशव चक्रवर्ती, मुरारी लाल खन्ना (गुप्ता), बनवारी लाल, मुकुंदी लाल गुप्ता और मन्मथनाथ गुप्ता ने अंजाम दिया था। लक्ष्य गार्ड केबिन था, जो विभिन्न रेलवे स्टेशनों से एकत्र किए गए पैसे को लखनऊ में जमा करने के लिए ले जा रहा था। हालाँकि क्रांतिकारियों ने किसी भी यात्री को निशाना नहीं बनाया, लेकिन गार्ड और क्रांतिकारियों के बीच गोलीबारी में अहमद अली नाम का एक यात्री मारा गया। इससे यह हत्या का मामला बन गया। इस कारण अंग्रेजों ने क्रांतिकारियों पर मुकदमा चलाया। 

आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, मुकदमे के दौरान 40 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। चन्द्रशेखर आजाद, जिन्हें पकड़ा नहीं जा सका, ने एचआरए को पुनर्गठित किया और 1931 तक संगठन चलाया। 27 फरवरी को पुलिस के साथ मुठभेड़ में चन्द्रशेखर आजाद पार्क (तब अल्फ्रेड पार्क) ने अपनी आखिरी गोली लगने के बाद उन्होंने खुद को गोली मार ली।

काकोरी पिन कोड – Kakori Pin Code

Kakori Pincode226101

काकोरी कांड प्रश्न उत्तर – Kakori Kand FAQs

काकोरी कांड का नया नाम क्या है?

काकोरी एक्शन

काकोरी कांड (काकोरी एक्शन) कब हुआ था?

9 अगस्त, 1925 के दिन इस घटना को अंजाम दिया गया था।

काकोरी कांड (काकोरी एक्शन) कहाँ हुआ था?

काकोरी में, काकोरी भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के लखनऊ जिले में स्थित एक नगर और नगर पंचायत है।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत के प्रधानमंत्री - Prime Minister of India

भारत के प्रधानमंत्री – Prime Minister of India

Total
0
Shares
Previous Post
पी० वी० नरसिम्हा राव : जयंती विशेष 28 जून

पी० वी० नरसिम्हा राव : जयंती विशेष 28 जून

Next Post
तृप्ति डिमरी - Who is Tripti Dimri?

तृप्ति डिमरी – Who is Tripti Dimri?

Related Posts
Total
0
Share