चन्द्रशेखर आजाद – Chandra Shekhar Azad

23 July | Chandrashekhar Azad
23 July | Chandrashekhar Azad

भारत की स्वंतंत्रता में अनेक लोगों का योगदान रहा है। उनमें से एक थे ‘चंद्रशेखर आज़ाद’। उनका जन्म के समय नाम रखा गया था “चन्द्रशेखर तिवारी”। चन्द्रशेखर आजाद एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी थे, जिन्होंने ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के विरुद्ध भारत के स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके अटूट दृढ़ संकल्प, निडरता और उद्देश्य के प्रति प्रतिबद्धता ने उन्हें भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में एक प्रतिष्ठित व्यक्ति बना दिया। उन्हें “आज़ाद” के रूप में जाना जाता है, उन्होंने अपने नाम के अनुरूप जीवन व्यतीत किया और भारत को साम्राज्यवाद की बेड़ियों से मुक्त कराने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया।

आईये, इस लेख के माध्यम से उनके बारे में कुछ जानने का प्रयास करतें हैं।

Chandra Shekhar Biography in Hindi

प्रारंभिक जीवन और क्रांति का आह्वान

उनका जन्म 23 जुलाई, 1906 को हुआ था। आधुनिक मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव में जन्मे युवा चंद्रशेखर तिवारी को कम उम्र से ही औपनिवेशिक उत्पीड़न की कठोर वास्तविकताओं से अवगत कराया गया था। वर्ष 1919 में जलियांवाला बाग नरसंहार को देखने से उन पर गहरा प्रभाव पड़ा और अपने देश के लिए न्याय पाने की उनकी इच्छा जागृत हुई।

असहयोग आंदोलन में शामिल होना

अपनी किशोरावस्था के दौरान, चन्द्रशेखर आज़ाद ने 1920-1922 के महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया। हालाँकि, उनकी मान्यताएँ गांधी के अहिंसा के दर्शन से भिन्न थीं। आज़ाद का दृढ़ विश्वास था कि आज़ादी केवल अंग्रेजों के खिलाफ सशस्त्र प्रतिरोध के माध्यम से ही प्राप्त की जा सकती है।

हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन (एचएसआरए)

1923 में, चंद्रशेखर आज़ाद ने हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन (एचएसआरए) बनाने के लिए भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव और राम प्रसाद बिस्मिल सहित अन्य समान विचारधारा वाले क्रांतिकारियों के साथ हाथ मिलाया। एचएसआरए का लक्ष्य सशस्त्र संघर्ष के माध्यम से ब्रिटिश शासन को उखाड़ फेंकना था और ‘आज़ाद’ इसके सबसे प्रमुख नेताओं में से एक बन गए।

काकोरी ट्रेन एक्शन – Kakori Train Action

HSRA द्वारा की गई महत्वपूर्ण कार्रवाइयों में से एक 1925 में काकोरी ट्रेन डकैती (काकोरी ट्रैन एक्शन) थी। इस साहसिक कार्य में क्रांतिकारी गतिविधियों को वित्तपोषित करने के लिए उत्तर प्रदेश के काकोरी के पास ब्रिटिश धन ले जा रही एक ट्रेन को लूटना शामिल था। योजना को क्रियान्वित करने में आज़ाद के सामरिक कौशल निडरता की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

ब्रिटिश पुलिस से झड़प

चन्द्रशेखर आज़ाद के साहस और निशानेबाजी कौशल ने उन्हें ब्रिटिश पुलिस के बीच एक दुर्जेय प्रतिद्वंद्वी के रूप में ख्याति दिलाई। उन्होंने पुलिस के साथ कई मुठभेड़ों में सामना किया, जहां वह हमेशा जीवित न पकड़े जाने की अपनी प्रतिज्ञा का पालन करते हुए, बेदाग भागने में सफल रहे।

अल्फ्रेड पार्क हादसा

दुखद बात यह है कि 27 फरवरी, 1931 को, चन्द्रशेखर आज़ाद को एक मुखबिर ने धोखा दिया, जिसके कारण ब्रिटिश पुलिस ने उन्हें इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क (अब आज़ाद पार्क) में घेर लिया। आत्मसमर्पण करने के बजाय, उन्होंने अपने साथी क्रांतिकारियों को भागने देने के लिए अकेले ही पुलिस से लोहा लेते हुए बहादुरी से लड़ाई लड़ी। यह महसूस करते हुए कि पकड़ा जाना अपरिहार्य था, तो उन्होंने खुद को गोली मार ली और जंजीरों में जकड़ी जिंदगी के बजाय मृत्यु का वरण किया।

विरासत और प्रभाव

चन्द्रशेखर आज़ाद के वीरतापूर्ण कार्यों और स्वतंत्रता की निरंतर खोज ने भारतीयों की पीढ़ियों को स्वतंत्रता के संघर्ष में शामिल होने के लिए प्रेरित किया। राष्ट्र के प्रति उनकी निडरता और अटूट समर्पण की भावना लाखों लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनी हुई है।

आज़ाद की स्मृति भारत भर में उनके नाम पर बने कई स्कूलों, संस्थानों और सार्वजनिक स्थानों के माध्यम से जीवित है।

चन्द्रशेखर आजाद से जुड़ी खबरें – Chandra Shekhar Azad in News

सेना, सैनिक एवं रक्षा से सम्वन्धित यह लेख अगर आपको अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

KF Rustamji

के एफ रूस्तमजी – KF Rustamji

AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC जनरल बिपिन रावत - General Bipin Rawat

जनरल बिपिन रावत – General Bipin Rawat

pCWsAAAAASUVORK5CYII= लांस नायक अल्बर्ट एक्का - Lance Naik Albert Ekka

लांस नायक अल्बर्ट एक्का – Lance Naik Albert Ekka

AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC सैम मानेकशॉ : व्यक्तित्व  

सैम मानेकशॉ : व्यक्तित्व  

pCWsAAAAASUVORK5CYII= Major Shaitan Singh - मेजर शैतान सिंह पुण्यतिथि : 18 November

Major Shaitan Singh – मेजर शैतान सिंह पुण्यतिथि : 18 November

pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारतीय वायु सेना दिवस - Indian Air Force Day : 8 अक्टूबर

भारतीय वायु सेना दिवस – Indian Air Force Day : 8 अक्टूबर

Total
0
Shares
Previous Post
सफलता पाने के लिए याद रखें ये 5 बातें

सफलता पाने के लिए याद रखें ये 5 बातें – Success Mantra

Next Post
मनोज मुंतशिर - Manoj Muntashir

मनोज मुंतशिर – Manoj Muntashir

Related Posts
Total
0
Share