ए. सी. भक्तिवेदांत स्वामी ‘प्रभुपाद’ : पुण्यतिथि

hAFUBAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAALwGsYoAAaRlbhAAAAAASUVORK5CYII= ए. सी. भक्तिवेदांत स्वामी ‘प्रभुपाद’ : पुण्यतिथि

ए. सी. भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद, जिन्हें आमतौर पर ‘श्रील प्रभुपाद’ के नाम से जाना जाता है, एक अत्यधिक प्रभावशाली आध्यात्मिक नेता, शिक्षक और इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर कृष्णा कॉन्शसनेस (इस्कॉन) के संस्थापक-आचार्य थे। वे हरे कृष्ण आंदोलन के प्रणेता थे। वह भक्ति योग और हरे कृष्ण मंत्र की शिक्षाओं को दुनिया भर में फैलाने के अपने समर्पण के लिए प्रसिद्ध हैं। 

प्रारंभिक जीवन और आध्यात्मिक आकर्षण

श्रील प्रभुपाद का जन्म 1 सितंबर, 1896 को कलकत्ता, भारत में अभय चरण डे के नाम से हुआ था। उनका पालन-पोषण एक वैष्णव परिवार में हुआ। उनके पिता गौर मोहन डे थे, जो एक कपड़ा व्यापारी थे, और उनकी माँ रजनी डे थीं। छोटी उम्र से ही, उन्होंने आध्यात्मिक मामलों में गहरी रुचि प्रदर्शित की और विशेष रूप से चैतन्य महाप्रभु और भगवद गीता की शिक्षाओं के प्रति आकर्षित हुए।

आध्यात्मिक गुरु के साथ जुड़ाव

वर्ष 1922 में, श्रील प्रभुपाद अपने आध्यात्मिक गुरु, श्रील भक्तिसिद्धांत सरस्वती ठाकुर से मिले, जिन्होंने उन्हें अंग्रेजी भाषी दुनिया में चैतन्य महाप्रभु और कृष्ण चेतना की शिक्षाओं का प्रसार करने के लिए प्रोत्साहित किया।

सन्यास और कृष्ण-भक्ति का प्रचार-प्रसार

सन् 1933 में दीक्षा प्राप्त करने के बाद, ‘अभय चरण डे’ ‘ए.सी. भक्तिवेदांत स्वामी’ बन गए और बाद में, 1947 में उन्होंने संन्यास लिया।

कई वर्षों तक, श्रील प्रभुपाद ने एक सरल और संयमित जीवन व्यतीत किया, धर्मग्रंथ लिखे और अनुवाद किए और पश्चिम में अपने मिशन के लिए खुद को तैयार किया।

Srila Prabhupada 1 ए. सी. भक्तिवेदांत स्वामी ‘प्रभुपाद’ : पुण्यतिथि

संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा

1965 में, 69 वर्ष की आयु में, श्रील प्रभुपाद ने कम पैसे और कुछ संपर्कों के साथ संयुक्त राज्य अमेरिका की ऐतिहासिक यात्रा शुरू की। उनका मिशन भगवान चैतन्य और कृष्ण के संदेश को पश्चिमी दुनिया तक फैलाना था।

इस्कॉन की स्थापना

न्यूयॉर्क शहर पहुंचने पर, श्रील प्रभुपाद को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा, लेकिन वे दृढ़ रहे और उनकी शिक्षाओं ने अनुयायियों को आकर्षित करना शुरू कर दिया। 1966 में उन्होंने आधिकारिक तौर पर इस्कॉन की स्थापना की। 1967 में, सैन फ्रांसिस्को में एक केंद्र शुरू किया गया था। उन्होंने अपने शिष्यों के साथ पूरे अमेरिका की यात्रा की और सड़क पर जप (संकीर्तन), पुस्तक वितरण और सार्वजनिक भाषणों के माध्यम से आंदोलन को लोकप्रिय बनाया।

आगामी वर्षों में, कृष्ण चेतना आंदोलन के उपदेशक के रूप में उनकी भूमिका ने दुनिया भर में अन्य देशों में मंदिर और समुदाय केंद्र स्थापित करने के लिए प्रेरित किया। 

विपुल लेखन और अनुवाद

श्रील प्रभुपाद का सबसे उल्लेखनीय योगदान वैदिक ग्रंथों पर उनका व्यापक अनुवाद और भाष्य था। उन्होंने भगवद गीता, श्रीमद्भागवतम और अन्य महत्वपूर्ण ग्रंथों का अनुवाद और तात्पर्य लिखा।

उनका भगवद गीता अनुवाद, एक व्यापक रूप से प्रशंसित और सम्मानित कार्य बन गया।

अंत समय व विरासत

14 नवंबर, 1977 को भारत के वृन्दावन में उनका निधन हो गया, और वे अपने पीछे समर्पित अनुयायियों का एक वैश्विक समुदाय और भक्ति योग के अभ्यास पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ गये। 1977 में वृन्दावन में उनकी मृत्यु के समय तक, इस्कॉन गौड़ीय वैष्णव सम्प्रदाय की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ज्ञात अभिव्यक्ति बन गया था।

श्रील प्रभुपाद के समर्पण, शिक्षाओं और नेतृत्व ने पश्चिमी दुनिया में हिंदू धर्म, विशेषकर भक्ति परंपरा को लोकप्रिय बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

श्रील प्रभुपाद का जीवन और कार्य दुनिया भर में लोगों को भक्ति और आध्यात्मिकता का मार्ग तलाशने के लिए प्रेरित करता है, और इस्कॉन उनकी शिक्षाओं और हरे कृष्ण मंत्र के प्रचार-प्रसार के लिए समर्पित एक जीवंत, विश्वव्यापी संगठन बना हुआ है।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

भारत के राष्ट्रपति | President of India

भारत के राष्ट्रपति : संवैधानिक प्रमुख 

Bharatiya Janata Party

भारतीय जनता पार्टी – BJP

Total
0
Shares
Previous Post
विश्व कप फाइनल में पहुंचा भारत, आईसीसी विश्व कप 2023 में कोहली का 50वां वनडे शतक

विश्व कप फाइनल में पहुंचा भारत, आईसीसी विश्व कप 2023 में कोहली का 50वां वनडे शतक

Next Post
डेली न्यूज़ - Daily News : 17 November, 2023

डेली न्यूज़ – Daily News : 17 November, 2023

Related Posts
pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत के प्रमुख 12 ज्योतिर्लिंग

भारत के प्रमुख 12 ज्योतिर्लिंग

12 ज्योतिर्लिंग स्तुति सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्रीशैले मल्लिकार्जुनम् ।उज्जयिन्यां महाकालम्ॐकारममलेश्वरम् ॥१॥ परल्यां वैद्यनाथं च डाकिन्यां भीमाशंकरम् ।सेतुबंधे तु…
Read More
Total
0
Share