विश्व तंबाकू निषेध दिवस – World No Tobacco Day

hAFUBAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAALwGsYoAAaRlbhAAAAAASUVORK5CYII= विश्व तंबाकू निषेध दिवस - World No Tobacco Day

‘विश्व तंबाकू निषेध दिवस’ हर साल 31 मई को मनाया जाता है। जिसका उद्देश्य लोगों को तंबाकू के खतरों के बारे में जानकारी देना और जागरूक करना है। हर साल दुनिया भर में लाखों लोग तंबाकू के सेवन की वजह से मरते हैं। जानिए वे कारण जिनके चलते इस दिवस को मनाने की शुरुआत हुई।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने की शुरुआत

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष 1987 में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने का निर्णय लिया था। इसके पीछे कारण यह था कि उस समय तंबाकू के कारण होने वाली मौतों की संख्या किसी भी अन्य बीमारी की तुलना में बहुत अधिक थी। इस दिवस को विश्व स्तर पर मनाने का उद्देश्य लोगों को तंबाकू सेवन के खतरों और इसे रोकने के उपायों के बारे में जागरूक करना था। इस अवसर पर कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिसके माध्यम से लोग इसके खतरों को समझ सकते हैं।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2024 थीम विश्व तंबाकू निषेध दिवस: 2024 मनाया जाने वाला थीम और जानें धूम्रपान की आदत कैसे छोड़ें
विश्व तंबाकू निषेध दिवस: 2024 का थीम और जानें धूम्रपान की आदत कैसे छोड़ें 12

तंबाकू निषेध दिवस 2024 का विषय

हर साल विश्व तंबाकू निषेध दिवस एक विशेष थीम के साथ मनाया जाता है। वर्ष 2024 में नो टोबैको डे 2024 का थीम है बच्चों को तंबाकू उद्योग के हस्तक्षेप से बचाना।

तम्बाकू के हानिकारक प्रभाव केवल धूम्रपान करने वालों तक ही सीमित नहीं हैं, बल्कि जो लोग इसके संपर्क में आते हैं, वे भी जोखिम में हैं। वे हृदय रोग, श्वसन रोग और कुछ प्रकार के कैंसर से भी प्रभावित हो सकते हैं। कुल मिलाकर, तम्बाकू का उपयोग शारीरिक स्वास्थ्य को काफी नुकसान पहुंचाता है, जिससे मृत्यु दर में वृद्धि होती है और जीवन की गुणवत्ता कम होती है।

धूम्रपान स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। यह हर सिगरेट के डिब्बे पर लिखा होता है। लेकिन इस चेतावनी के बाद भी लोग धड़ल्ले से सिगरेट का सेवन करते रहते हैं। धूम्रपान की वजह से लोग कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। इससे होने वाली फेफड़ों की बीमारियों में क्रॉनिक ब्रोंकाइटिस और फेफड़ों का कैंसर शामिल है। अगर आप भी तंबाकू से दूर रहना चाहते हैं और समझ नहीं पा रहे हैं कि इससे कैसे दूर रहा जाए तो हम आपको विशेषज्ञों द्वारा बताए गए कुछ टिप्स बता रहे हैं जो आपकी काफी मदद करेंगे।

धूम्रपान कैसे छोड़ें – How To Quit Smoking

धूम्रपान की आदत छोड़ने के लिए अपनी जीवनशैली में करें ये 5 छोटे बदलाव

  • धूम्रपान की आदत छोड़ने के लिए आप निकोटीन रिप्लेसमेंट थेरेपी की मदद ले सकते हैं। यह उन पहली चीजों में से एक है जिससे लोग शुरुआत करते हैं। निकोटीन गम या तंबाकू की तलब को कम करने में मदद करता है। यह शरीर को कुछ निकोटीन की आपूर्ति करता है लेकिन इसमें तंबाकू जैसे हानिकारक रसायन नहीं होते हैं।
  • हर किसी के पास अपने-अपने ट्रिगर पॉइंट होते हैं जो धूम्रपान की इच्छा को जन्म देते हैं। अगर आप धूम्रपान से दूर रहना चाहते हैं, तो इन ट्रिगर्स को पहचानें और उनसे बचें, जैसे पार्टियों में जाना, लंबे समय तक फ़ोन पर बात करना या तनाव में रहना, ये सभी अक्सर धूम्रपान की इच्छा को जन्म देते हैं। जितना हो सके इन गतिविधियों से दूर रहने की कोशिश करें।
  • खुद को नियमित रूप से शारीरिक गतिविधियों में शामिल रखें। एक दिनचर्या बनाएं और कुछ शारीरिक गतिविधि करें। आप दौड़ें, टहलें या जिम जाएँ। ऐसा करने से आपका ध्यान बंटेगा और तंबाकू की आपकी तलब कम होगी।
  • अपने लक्ष्य पर अडिग रहें। अक्सर लोग तंबाकू की तलब को शांत करने के लिए सिर्फ़ एक सिगरेट पीने की इच्छा ज़ाहिर करते हैं, लेकिन ऐसा करना खुद को बेवकूफ़ बनाने जैसा है। अगर आप एक सिगरेट पीते हैं, तो आपकी ज़्यादा सिगरेट पीने की तलब बढ़ जाएगी। ऐसे में जब भी आपको सिगरेट पीने का मन करे, तो खुद पर काबू रखें।
  • तंबाकू की तलब से लड़ने के लिए आप कुछ विश्राम तकनीकों की मदद ले सकते हैं। जैसे गहरी साँस लेने के व्यायाम करना, योग करना, संगीत सुनना या अपनी पसंदीदा गतिविधियाँ करना। इन सब से आप खुद को आराम दे पाएँगे।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस मानना कब से प्रारम्भ हुआ ?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने वर्ष 1987 में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने की घोषणा की थी।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

भारत के राष्ट्रपति | President of India

भारत के राष्ट्रपति : संवैधानिक प्रमुख 

भारत के उप-राष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के उपराष्ट्रपति – Vice Presidents of India

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
कृष्ण दास - Krishna Das (Jeffrey Kagel)

कृष्ण दास – Krishna Das (Jeffrey Kagel)

Next Post
Lok Sabh Election 2024 : फिरोजाबाद लोकसभा क्षेत्र का चुनावी विश्लेषण

Lok Sabh Election 2024 : फिरोजाबाद लोकसभा क्षेत्र का चुनावी विश्लेषण

Related Posts
Total
0
Share