Akshaya Tritiya 2024: क्या है अक्षय तृतीया का महत्त्व?

Akshaya Tritiya 2024: क्या है अक्षय तृतीया का महत्त्व?

अक्षय तृतीया में अक्षय का अर्थ होता है ‘जो कभी न घटे’ और तृतीया का संबंध तिथि से है।

हर साल अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) का त्योहार हिंदू कैलेंडर के अनुसार वैशाख माह के शुल्क पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। हिंदू धर्म के लोगों के लिए सभी त्योहारों की तरह अक्षय तृतीया का भी विशेष महत्त्व है। अक्षय तृतीया दो शब्दों अक्षय और तृतीया से मिलकर बना है, जिसमें अक्षय का अर्थ होता है ‘जो कभी न घटे’ और तृतीया का संबंध तिथि से है। हिंदू धर्म के लोग अक्षय तृतीया के दिन को बहुत शुभ मानते हैं। ऐसा माना जाता है कि आज के दिन कोई भी नया कार्य शुरू करना अथवा कोई भी नई वस्तु खरीदना बेहद शुभ होता है।

अक्षय तृतीया का महत्त्व

धार्मिक मान्यता के अनुसार अक्षय तृतीया का दिन किसी भी नए काम के लिए शुभ माना गया है। लोगों का ऐसा मानना है कि आज के दिन कोई भी नया काम शुरू करने से उस काम में सफलता अवश्य प्राप्त होती है। धन वृद्धि के लिए लोग अक्षय तृतीया के दिन सोना-चांदी खरीदतें हैं। आज के दिन मां लक्ष्मी जी की पूजा करने का भी विशेष महत्त्व होता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार अक्षय तृतीया के दिन किए गए शुभ कार्यों का फल अक्षय मिलता है यानी कि उसका फल जीवन में कभी कम नहीं होता। अक्षय तृतीया को बहुत सी जगहों पर अखा तीज के नाम से भी जाना जाता है।

Akshaya Tritiya 2024
Akshaya Tritiya 2024

अक्षय तृतीया के दिन होने वाली घटनाएं

हिंदू पौराणिक कथाओं में अक्षय तृतीया के दिन होने वाली कई घटनाओं का उल्लेख मिलता है, जैसे-

  • ऐसा माना जाता है कि अक्षय तृतीया के दिन ही सतयुग और त्रेता युग का प्रारंभ हुआ था।
  • ये भी मान्यता है कि भगवान विष्णु के दो अवतार हयग्रीव और परशुराम का जन्म भी आज ही दिन हुआ था। इसलिए अक्षय तृतीया के दिन परशुराम जयंती भी मनाई जाती है।
  • एक मान्यता ये भी है कि अक्षय तृतीया के दिन भगवान श्री कृष्ण ने युधिष्ठिर को अक्षय पात्र दिया था, जिसका भोजन कभी भी खत्म नहीं होता था।
  • लोग ये भी मानते हैं कि माँ गंगा का धरती पर अवतरण भी अक्षय तृतीया के दिन ही हुआ था।
  • ये भी माना जाता है कि महर्षि वेदव्यास जी ने महाभारत लिखने की शुरुआत इसी दिन से की थी।
  • हर साल उत्तराखंड चार धाम यात्रा की शुरुआत भी अक्षय तृतीया के दिन से ही होती है।

अक्षय तृतीया 2024 में कब है?

आपको बता दें कि इस साल अक्षय तृतीया का त्योहार 10 मई को शुक्रवार के दिन मनाया जाएगा। अगर आप किसी नए काम की शुरुआत करने जा रहे हैं, तो अक्षय तृतीया के दिन से कर सकते हैं।

FAQ’s

अक्षय तृतीया के दिन क्या करें क्या न करें?

अक्षय तृतीया के दिन किसी से पैसे उधार न लें बल्कि गरीबों को कपड़े और भोजन दान करें।

अक्षय तृतीया पर किस भगवान की पूजा की जाती है?

अक्षय तृतीया के दिन भगवान विष्णु और माँ लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

2024 में अक्षय तृतीया कब है?

2024 में अक्षय तृतीया 10 मई को है।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

Bharatiya Janata Party

भारतीय जनता पार्टी – BJP

pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत के प्रधानमंत्री - Prime Minister of India

भारत के प्रधानमंत्री – Prime Minister of India

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
Nifty This Week

इस सप्ताह निफ्टी – Nifty This Week: 9 May, 2024

Next Post
Yogendra Singh Yadav

योगेंद्र सिंह यादव – Yogendra Singh Yadav

Related Posts
pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत के प्रमुख 12 ज्योतिर्लिंग

भारत के प्रमुख 12 ज्योतिर्लिंग

12 ज्योतिर्लिंग स्तुति सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्रीशैले मल्लिकार्जुनम् ।उज्जयिन्यां महाकालम्ॐकारममलेश्वरम् ॥१॥ परल्यां वैद्यनाथं च डाकिन्यां भीमाशंकरम् ।सेतुबंधे तु…
Read More
Total
0
Share