Bishnoi Samaj : भारतीय समाज में बिश्नोई समाज का स्थान

Bishnoi

भारत में कई सम्प्रदाय ऐसे हैं जिन्होंने स्वयं को ‘समाज’ के नाम से अभिहित किया है। ‘बिश्नोई समाज‘ भी इसी बात का एक उदाहरण है। बिश्नोई समाज भारतीय समाज से कटा हुआ एक अलग समाज नहीं है। बिश्नोई भारत का एक हिन्दू सम्प्रदाय है। इस समाज के अनुयायी उत्तर पश्चिमी भारत के पश्चिमी राजस्थान में रहते हैं। बिश्नोई समाज एक ऐसा सम्प्रदाय है जो पर्यावरण से काफी प्रेम करता है।

‘बिश्नोई’ नाम कैसे पड़ा ?

बिश्नोई शब्द दो शब्दों के मेल से बना है – बिस(20) + नोई(9)। स्थानीय भाषा में बिस का मतलब है बीस (20) और नोई का मतलब है नो (9) यानी एक ऐसा सम्प्रदाय जो 29 नियमों का पालन करता हो। इस सम्प्रदाय के यह 29 नियम भी प्रकृति से इस समाज के जुड़ाव को दर्शाते है। इन नियमों में शील का पालन करना, सुबह, दोपहर और शाम के समय विष्णु भगवान की आराधना करना, बैल को बाँधकर ना रखना, किसी की निंदा करने से बचना जैसे तमाम नियम शामिल है। असल में इस समाज के लोग गुरु जम्भेश्वर जी को मानते हैं। गुरु जम्भेश्वर जी ने ही बिश्नोई समाज की स्थापना की थी। इन्ही के द्वारा अपने शिष्यों को 29 उपदेश दिए गए थे। आज भी इस समाज के लोग इन 29 उपदेशों का पालन करते हैं।

बिश्रोई समाज का नाम पहले विश्नोई समाज था लेकिन कालान्तर में इस समाज का नाम विश्नोई के स्थान पर बिश्नोई हो गया। ऐसा माना जाता है कि श्री गुरु जम्भेश्वर भगवान विष्णु के अवतार थे। विश्नोई शब्द विष्णु से बना है जो कालान्तर में परिवर्तित होकर बिश्नोई हो गया।

प्रकृति के प्रति समर्पित है बिश्नोई समाज

प्रकृति की रक्षा करने के लिए बिश्नोई समाज पूरी तरह से समर्पित है। आप इस बात को इस किस्से से भी समझ सकते हैं। खेजड़ी के हरे भरे वृक्षों की रक्षा करने के लिए बिश्नोई समाज से ताल्लुक रखने वाली अमृता देवी बिश्नोई के नेतृत्व में 363 बिश्नोई समाज के लोगों ने अपने प्राणों को न्यौछावर कर दिया था। इस समाज के लोगों में जानवरों के प्रति लगाव की भावना अधिक होती है इसलिए इस समाज के लोग शुद्ध शाकाहारी होते हैं। इस समाज के लोग पशुपालन और खेती करने जैसे काम करते हैं। यह ईमानदार होने के साथ ही काफी मेहनती और साहसी होते हैं। ‘अखिल भारतीय जीव रक्षा बिश्नोई महासभा‘ की स्थापना भी बिश्नोई समाज द्वारा जानवरों को संरक्षित करने के उद्देश्य से की गई है।

बिश्नोई समाज का प्रमुख धार्मिक स्थान

बिश्नोई समाज का प्रमुख धार्मिक स्थान मुकाम है। मुकाम राजस्थान के बीकानेर में स्थित एक गाँव है। यह स्थान बिश्नोई समाज के प्रवर्तक श्री जम्भेश्वर महाराज का प्रमुख समाधिस्थल मंदिर है, जिसे मुक्तिधाम मुकाम के नाम से भी जाना जाता है।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

bharat-ke-up-pradhanmantri

भारत के उप प्रधानमंत्री — Deputy Prime Ministers of India

pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत के प्रधानमंत्री - Prime Minister of India

भारत के प्रधानमंत्री – Prime Minister of India

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
नवरात्रि में क्यों किया जाता है कन्या पूजन ?

नवरात्रि में क्यों किया जाता है कन्या पूजन ?

Next Post
Islamic Calender 2023 : शुरू हुआ इस्लामिक कैलेंडर का नया साल

Islamic Calender 2023 : शुरू हुआ इस्लामिक कैलेंडर का नया साल

Related Posts
Total
0
Share