Islamic Calender 2023 : शुरू हुआ इस्लामिक कैलेंडर का नया साल

Islamic Calender 2023 : शुरू हुआ इस्लामिक कैलेंडर का नया साल

इस्लामिक कैलेंडर का दूसरा नाम ‘हिजरी साल’ भी है। ईस्वी कैलेंडर में रात 12 बजे से नए दिन की शुरुआत मानी जाती है जबकि इस्लामिक या हिजरी कैलेंडर में नए दिन की शुरुआत शाम के समय सूरज डूबने के वक्त से मानी जाती है। इस्लामिक कैलेंडर चंद्र कैलेंडर के हिसाब से चलता है। इस्लामिक कैलेंडर में कुल 12 महीने होते हैं। इन 12 महीनों में 29 और 30 दिन के महीने होते हैं जो एक दूसरे के बाद पड़ते है। इस्लामिक कैलेंडर के महीनों के अनुसार एक वर्ष में कुल 354 दिन होते हैं। यही वजह है कि यह सौर संवत के वर्ष से 11 दिन छोटा होता है। इस अंतर को पूरा करने के लिए 30 वर्ष बाद ज़िलहिज्ज महीने में कुछ दिन जोड़ दिए जाते हैं।

कैसे हुई हिजरी सन की शुरुआत ?

हिजरी सन की शुरुआत 622 ईस्वी से दूसरे खलीफा हजरत उमर फारुख रजि.के दौर में हुई थी। इस्लाम धर्म के आखरी प्रवर्तक हजरत मोहम्मद के पवित्र शहर मक्का से मदीना जाने के समय से हिजरी सन को इस्लामी वर्ष का आरंभ माना गया। खलीफा हजरत उमर रजि.नेहजरत अली रजि. और हजरत उस्मान गनी रजि. के सुझाव को मानते हुए मोहर्रम को पहला महीना तय कर दिया था। इसके बाद से ही विश्व भर के मुस्लिम मोहर्रम के महीने से ही इस्लामी नव वर्ष की शुरुआत मानते हैं।

कौन से हैं हिजरी सन के 12 महीने ?

  1. मुहर्रम
  2. सफर
  3. रबीउल-अव्वल
  4. रबीउल-आखिर
  5. जुमादिल-अव्वल
  6. जुमादिल-आखिर
  7. रज्जब
  8. शाअबान
  9. रमज़ान
  10. शव्वाल
  11. जिल काअदह
  12. जिल हिज्जा

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

भारत के राष्ट्रपति | President of India

भारत के राष्ट्रपति : संवैधानिक प्रमुख 

bharat-ke-up-pradhanmantri

भारत के उप प्रधानमंत्री – Deputy Prime Ministers of India

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
Bishnoi

Bishnoi Samaj : भारतीय समाज में बिश्नोई समाज का स्थान

Next Post
वेट लोस करने के लिए इस समय पीनी चाहिए ग्रीन टी

वेट लोस करने के लिए इस समय पीनी चाहिए ग्रीन टी

Related Posts
Total
0
Share