Chatrapati Shivaji : भारत के वीर सपूत छत्रपति शिवजी महाराज की पुण्यतिथि आज

भारत के वीर सपूत छत्रपति शिवजी महाराज की पुण्यतिथि आज
image source : culturalindia.net

भारत की धरती पर कई वीर सपूतों ने जन्म लिया है। भारत को मुगलों और अंग्रेज़ों के शासन से मुक्त कराने में भारत के इन वीरों का अभूतपूर्व योगदान रहा है। इन वीरों में कई भारतीय शासक ऐसे भी थे जिन्होंने मुगल शासकों को धूल चटा दी। इन शासकों में एक नाम छत्रपति शिवाजी महाराज का भी है।

वीर यौद्धा थे शिवाजी

छत्रपति शिवाजी महाराज का जन्म 16 फरवरी 1630 को पुणे के पास स्थित शिवनेरी के दुर्ग में हुआ था। उनका पूरा नाम शिवाजी भोंसले था। उनके पिता का नाम शाहजी और माता का नाम जीजाबाई था। छत्रपति शिवाजी महाराज एक कुशल शासक होने के साथ ही सैन्य रणनीतिकार और वीर यौद्धा थे। वह सभी धर्मों का सम्मान करते थे। छत्रपति शिवजी महाराज मराठा शासक थे, जिन्होंने मुगलों से युद्ध करते हुए उन्हें कई बार घुटने टेकने पर भी मजबूर किया था।

कैसे हुआ था शिवाजी महाराज का निधन ?

शिवाजी की मृत्यु 3 अप्रैल 1680 को उनके रायगढ़ किले में हुई थी। लेकिन शिवाजी की मृत्यु को लेकर इतिहासकारों के बीच मतभेद की स्थिति बनी हुई है। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि उनकी मृत्यु स्वाभाविक थी लेकिन कुछ इतिहासकारों का कहना है कि उन्हें ज़हर दिया गया था, जिसे पीने के बाद उन्हें खून की पेचिस हुई और उन्हें बचाया नहीं जा सका। इसके बाद से 3 अप्रैल को उनकी पुण्यतिथि के रूप में मनाया जाता है।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

भारत रत्न : भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत के प्रधानमंत्री - Prime Minister of India

भारत के प्रधानमंत्री – Prime Minister of India

bharat-ke-up-pradhanmantri

भारत के उप प्रधानमंत्री — Deputy Prime Ministers of India

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
दिल्ली की कड़कती धूप में यहाँ मिलेगी ठंडक

दिल्ली की कड़कती धूप में यहाँ मिलेगी ठंडक

Next Post
मोबाइल की दुनिया में आज ही के दिन पहली कॉल से हुई थी क्रान्ति

मोबाइल की दुनिया में आज ही के दिन पहली कॉल से हुई थी क्रान्ति

Related Posts
Total
0
Share