स्टारबक्स कप में बनी लड़की कौन है?

AAGNyqJ5AAAAAElFTkSuQmCC स्टारबक्स कप में बनी लड़की कौन है?

कई बार हमारे सामने ऐसी चीजें आ जाती हैं जिनके बारे में हम जानते तो हैं, लेकिन उनके बारे में कभी सोचा नहीं होता। जैसे कुछ कंपनियों के लोगो और उनके पीछे की कहानियाँ।

अगर आपसे पूछा जाए कि दुनिया की सबसे मशहूर कॉफी चेन कौन सी है तो आपका जवाब क्या होगा? आपको स्टारबक्स कॉफ़ी की भी याद आ सकती है। यह कॉफी चेन पूरी दुनिया में मशहूर है और एक रिपोर्ट के मुताबिक, 84 देशों में इस कॉफी चेन ब्रांड के 34,630 स्टोर हैं। यह न केवल कॉफ़ी बेचता है, बल्कि स्टारबक्स का माल भी बहुत प्रसिद्ध है। लेकिन एक चीज सबमें कॉमन है और वो है इस कंपनी का लोगो। लड़की के चेहरे वाला ये लोगो इस कंपनी की पहचान है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये लड़की कौन है?

तो चलिए आज हम आपको स्टारबक्स के लोगो के पीछे की कहानी बताते हैं।

स्टारबक्स लोगो में लड़की कौन है?

दरअसल ये कोई लड़की नहीं बल्कि एक जलपरी है। जी हां, यह कलाकृति सायरन नामक जलपरी की है। यदि आप स्टारबक्स के कुछ लोगो को ध्यान से देखें, तो यह दोहरी पूंछ वाली एक जलपरी है। स्टारबक्स कंपनी का नाम भी पहले कुछ और था। यह बंदरगाह से जुड़ी कंपनी थी।

आखिर क्या है इसके लोगो की कहानी?

स्टारबक्स हमेशा स्टारबक्स नहीं रहा है। कंपनी का पहला स्टोर 1971 में सिएटल बंदरगाह पर खुला। तब एक जहाज के नाम पर इसका नाम पेक्वॉड रखा गया था। लेकिन ये नाम ज्यादा मशहूर नहीं हो पाया और फिर इसका नाम बदलकर स्टारबक्स कर दिया गया। एक अतिरिक्त एस का नाम जहाज के मुख्य अधिकारी के नाम पर रखा गया था। अब जब कंपनी का नाम एक जहाज के नाम पर रखा गया था, उसकी पहली दुकान बंदरगाह पर थी, तो उसके लोगो में भी नौसेना थीम होनी चाहिए। इसीलिए जलपरी को चुना गया।

लोगो ग्रीक पौराणिक कथाओं से संबंधित है

ग्रीक पौराणिक कथाओं में सायरन का बहुत महत्व था। कहानियों के अनुसार जलपरियों की आवाज नाविकों को अपनी ओर आकर्षित करती थी और वे उन्हें अपने द्वीप पर ले जाते थे। इसके मालिक ने सोचा कि स्टारबक्स लोगो भी ऐसा ही करेगा और नाविकों को आकर्षित करेगा। फिर पहला लोगो डिजाइन किया गया जो कॉफी ब्राउन कलर का था। इसमें जलपरी का डिज़ाइन इतना स्पष्ट था कि उसके स्तन भी दिखाई दे रहे थे। शुरुआती लोगो में कॉफ़ी, चाय और मसाले जैसे शब्द भी शामिल थे जो यह बताते थे कि कंपनी क्या पेशकश करती है।

समय के साथ लोगो बदलता है

1987 में, कंपनी को एक अमेरिकी व्यवसायी हॉवर्ड शुल्ट्ज़ ने खरीद लिया था। उन्होंने एक अमेरिकी कलाकार और ग्राफिक डिजाइनर को काम पर रखा और जलपरी को नया रूप दिया। इसका लोगो भूरे से हरे रंग में बदल गया।

इसके बाद 1992 में मूल लोगो को एक बार फिर से बदला गया और जलपरी के चेहरे को ज़ूम इन किया गया। 2008 में कंपनी की 40वीं वर्षगांठ से पहले इस लोगो को एक बार फिर से बदल दिया गया। उस समय लोगो का रंग काला कर दिया गया था, लेकिन जनता को यह पसंद नहीं आया। इसके बाद जलपरी को फिर से हरे रंग से रंग दिया गया।

2011 में जलपरी को सबसे ज्यादा महत्व दिया गया। इस समय तक लोग उस लोगो वाली स्टारबक्स कंपनी को पहचानने लगे थे, इसलिए नाम हटा दिया गया। इस समय तक जलपरी को राजकुमारी का लुक मिल चुका था और उसके बालों के ऊपर एक मुकुट भी नजर आ रहा था। यह लोगो अभी भी उपयोग में है और इसे हमेशा मामूली बदलावों के साथ पुनः ब्रांड किया जाता है। अब स्टारबक्स कंपनी की पहचान उसका लोगो बन गया है। तो ये थी स्टारबक्स की कहानी।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
pCWsAAAAASUVORK5CYII= परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

Bharatiya Janata Party

भारतीय जनता पार्टी – BJP

भारत के राष्ट्रपति | President of India

भारत के राष्ट्रपति : संवैधानिक प्रमुख 

Total
0
Shares
Previous Post
Daily News Banner

डेली न्यूज़ – Daily News : 11 December, 2023

Next Post
विष्णु देव साई  - Vishnu Deo Sai

विष्णु देव साई  – Vishnu Deo Sai

Related Posts
Total
0
Share