सूर्य ग्रहण, चंद्र ग्रहण 2024 – Solar And Lunar Eclipse 2024

Solar System
Solar System

सूर्य ग्रहण 2024 – Solar Eclipse

  • सोमवार, 8 अप्रैल 2024सूर्यग्रहण (विदेश में), चैत्र कृष्ण अमावस्या को लगने वाला खग्रास सूर्यग्रहण भारत में नहीं दिखेगा। विदेश में ग्रहण का प्रारंभ भारतीय समयानुसार 9:12 रात और अंत 2:22 रात में होगा। यह ग्रहण उत्तरी अमेरिका, मध्य अमेरिका, ग्रीनलैंड, आइसलैंड आदि में दिखाई देगा। भारत में ना दिखने के कारण इस ग्रहण का कोई भी सूतक लागू नहीं है। ध्यान रखें ग्रहण जहाँ होता है उस क्षेत्र में सूतक लगता है, सोशल मीडिया आदि से भ्रमित ना हों।
  • बुधवार, 2 अक्टूबर 2024सूर्यग्रहण (विदेश में), आश्विन कृष्ण अमावस्या को लगने वाला कंकणाकृति सूर्यग्रहण भारत में नहीं दिखेगा। विदेश में भारतीय समय अनुसार ग्रहण का प्रारम्भ 9:13 रात में तथा समाप्ति 3:17 मध्य रात्रि में होगी। यह ग्रहण पोलिनेशिया, पश्चिमी मेक्सिको, दक्षिण अमेरिका आदि के कुछ क्षेत्र में दिखाई देगा। क्योंकि यह भारत में दिखाई नहीं देगा इसलिये इस ग्रहण का देश में कोई सूतक नहीं है। 
solar system1 सूर्य ग्रहण, चंद्र ग्रहण 2024 - Solar And Lunar Eclipse 2024

चंद्र ग्रहण 2024 – Lunar Eclipse

  • बुधवार, 18 सितम्बर 2024चंद्रग्रहण (विदेश में), भाद्रपद शुक्ल की पूर्णिमा को लगने वाला चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखेगा। विदेश में भारतीय समयानुसार ग्रहण का प्रारम्भ 7:42 प्रातः तथा 8:45 दिन में समाप्त होगा। यह ग्रहण मध्य- पूर्व अफ्रीका, यूरोप, अमेरिका आदि के कई क्षेत्र में दिखेगा। यह चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखने के कारण इसका कोई सूतक भी नहीं लगेगा।

विदेश में जहाँ-जहाँ यह दिखाई देगा वहाँ- वहाँ चंद्रग्रहण के 9 घंटे पूर्व और सूर्यग्रहण के 12 घंटे पूर्व सूतक लगेगा जो ग्रहण समाप्ति के साथ ही समाप्त हो जायेगा। टी.वी. चैनल में दिखाये जाने वाले उपछाया ग्रहण की मान्यता शास्त्रों में नहीं है इसलिये उपछाया ग्रहण से भ्रमित न हों।

चंद्र ग्रहण का खगोलीय कारण

चंद्र ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा पृथ्वी की छाया से होकर गुजरता है। यह केवल पूर्णिमा के दौरान होता है, जब चंद्रमा सूर्य से पृथ्वी के सबसे दूर बिंदु पर होता है। एक चंद्र ग्रहण लंबे समय तक चलता है, पूरा होने में कई घंटे लगते हैं, पूर्णता के साथ आमतौर पर औसतन लगभग 30 मिनट से एक घंटे तक। ज्योतिष के अनुसार चंद्र ग्रहण एक खगोलीय घटना है। जब पृथ्वी चंद्रमा और सूर्य के बीच आ जाती है और पृथ्वी की पूर्ण या आंशिक छाया चंद्रमा पर पड़ती है, तो आंशिक या पूर्ण चंद्र ग्रहण होता है।

ग्रहण के पीछे पौराणिक कथा

ग्रहण है तो एक खगोलीय प्रघटना किन्तु सनातन-हिन्दू धर्म में इसका विशेष महत्व है। सूर्य एवं चंद्र ग्रहण की कहानी जड़ें व्याप्त है पौराणिक कथाओं में।

पौराणिक कथाओं के अनुसार, जब समुद्र मंथन हो रहा था, तब अमृत पान को लेकर देवताओं और राक्षसों के बीच एक बहुत बड़ा युद्ध चल रहा था, जब देवताओं ने राक्षसों को धोखा दिया और अमृत पी लिया।

भगवान विष्णु ने मोहिनी का रूप धारण किया और एक सुंदर लड़की का रूप धारण किया और सभी को विश्वास दिलाया कि अमृत सभी को समान रूप से वितरित किया जाएगा। राक्षस और देवता अलग-अलग बैठे और विष्णु ने मोहिनी के रूप में देवताओं को अमृत बांटना शुरू कर दिया, राहु नाम का एक राक्षस जो सोचता था कि अगर वह देवताओं के बीच बैठ जाएगा, तो उसे भी अमृत का हिस्सा मिलेगा। वह देवताओं के साथ बैठा था और उसने भी अमृत लिया था। वह हमेशा के लिए अमर हो गया था, ऐसा करते हुए सूर्य देव और चंद्रमा भगवान ने उसे पकड़ लिया और यह बात विष्णु को बताई और विष्णु ने सुदर्शन चक्र से राहु की धार को अलग कर दिया, उस घटना के बाद राहु और केतु का जन्म हुआ।

असुर के मस्तक का नाम राहु और धड़ का नाम केतु था। वह सूर्य देव और चंद्र देव दोनों के कट्टर शत्रु थे, इसलिए वह हमेशा अपनी स्थिति में आते हैं और उन दोनों पर ग्रहण लगाते हैं।

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और अपने किसी भी तरह के विचारों को साझा करने के लिए कमेंट सेक्शन में कमेंट करें।

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
bharat-ke-up-pradhanmantri

भारत के उप प्रधानमंत्री — Deputy Prime Ministers of India

भारत के उप-राष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के उपराष्ट्रपति – Vice Presidents of India

भारत के राष्ट्रपति | President of India

भारत के राष्ट्रपति : संवैधानिक प्रमुख 

Total
0
Shares
Leave a Reply
Previous Post
भारत के प्रमुख 12 ज्योतिर्लिंग

भारत के प्रमुख 12 ज्योतिर्लिंग

Next Post
घर बैठे देखें रामलला की मनोहर आरती - Ram Lalla Live Aarti

घर बैठे देखें रामलला की मनोहर आरती – Ram Lalla Live Aarti

Related Posts
Total
0
Share