राम मंदिर, अयोध्या : प्राण प्रतिष्ठा और संबंधित आयोजनों का विवरण

Shri Ram
Ram Mandir

श्री राम मंदिर में श्री रामलला हुए प्रतिष्ठित, भक्तों में हुआ प्राणों का संचार

प्राण प्रतिष्ठा और संबंधित आयोजनों का विवरण

1. आयोजन तिथि और स्थल: भगवान श्री रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा योग का शुभ मुहूर्त, पौष शुक्ल कूर्म द्वादशी, विक्रम संवत 2080, यानी सोमवार, 22 जनवरी, 2024 को आ रहा है।

2. शास्त्रीय पद्धति और समारोह-पूर्व परंपराएं: सभी शास्त्रीय परंपराओं का पालन करते हुए, प्राण-प्रतिष्ठा का कार्यक्रम अभिजीत मुहूर्त में संपन्न किया जाएगा। प्राण प्रतिष्ठा के पूर्व शुभ संस्कारों का प्रारंभ कल अर्थात 16 जनवरी 2024 से होगा, जो 21 जनवरी, 2024 तक चलेगा। द्वादश अधिवास निम्नानुसार आयोजित होंगे:- -16 जनवरी: प्रायश्चित्त और कर्मकूटि पूजन -17 जनवरी: मूर्ति का परिसर प्रवेश -18 जनवरी (सायं): तीर्थ पूजन, जल यात्रा, जलाधिवास और गंधाधिवास -19 जनवरी (प्रातः): औषधाधिवास, केसराधिवास, घृताधिवास -19 जनवरी (सायं): धान्याधिवास -20 जनवरी (प्रातः): शर्कराधिवास, फलाधिवास -20 जनवरी (सायं): पुष्पाधिवास -21 जनवरी (प्रातः): मध्याधिवास -21 जनवरी (सायं): शय्याधिवास

3. अधिवास प्रक्रिया एवं आचार्य: सामान्यत: प्राण-प्रतिष्ठा समारोह में सात अधिवास होते हैं और न्यूनतम तीन अधिवास अभ्यास में होते हैं। समारोह के अनुष्ठान की सभी प्रक्रियाओं का समन्वय, समर्थन और मार्गदर्शन करने वाले 121 आचार्य होंगे। श्री गणेशवर शास्त्री द्रविड़ सभी प्रक्रियाओं की निगरानी, समन्वय और दिशा-निर्देशन करेंगे, तथा काशी के श्री लक्ष्मीकांत दीक्षित मुख्य आचार्य होंगे।

4. विशिष्ट अतिथिगण: प्राण प्रतिष्ठा भारत के आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूजनीय सरसंघचालक श्री मोहन भागवत जी, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल जी, उत्तर प्रदेश के आदरणीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी महाराज और अन्य गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में होगी।

5. विविध प्रतिष्ठान: भारतीय आध्यात्मिकता, धर्म, संप्रदाय, पूजा पद्धति, परंपरा के सभी विद्यालयों के आचार्य, 150 से अधिक परंपराओं के संत, महामंडलेश्वर, मंडलेश्वर, श्रीमहंत, महंत, नागा सहित 50 से अधिक आदिवासी, गिरिवासी, तातवासी, द्वीपवासी आदिवासी परंपराओं के प्रमुख व्यक्तियों की कार्यक्रम में उपस्थिति रहेगी, जो श्री राम मंदिर परिसर में प्राण-प्रतिष्ठा समारोह के दर्शन हेतु पधारेंगे।

6. ऐतिहासिक आदिवासी प्रतिभाग: भारत के इतिहास में प्रथम बार पहाड़ों, वनों, तटीय क्षेत्रों, द्वीपों आदि के वासियों द्वारा एक स्थान पर ऐसे किसी समारोह में प्रतिभाग किया जा रहा है। यह अपने आप में अद्वितीय होगा।

1500x500 राम मंदिर, अयोध्या : प्राण प्रतिष्ठा और संबंधित आयोजनों का विवरण

7. समाहित परंपराएँ: शैव, वैष्णव, शाक्त, गाणपत्य, पात्य, सिख, बौद्ध, जैन, दशनाम शंकर, रामानंद, रामानुज, निम्बार्क, माध्व, विष्णु नामी, रामसनेही, घिसापंथ, गरीबदासी, गौड़ीय, कबीरपंथी, वाल्मीकि, शंकरदेव (असम), माधव देव, इस्कॉन, रामकृष्ण मिशन, चिन्मय मिशन, भारत सेवाश्रम संघ, गायत्री परिवार, अनुकूल चंद्र ठाकुर परंपरा, ओडिशा के महिमा समाज, अकाली, निरंकारी, नामधारी (पंजाब), राधास्वामी और स्वामीनारायण, वारकरी, वीर शैव इत्यादि कई सम्मानित परंपराएँ इसमें भाग लेंगी।

8. दर्शन और उत्सव: गर्भ-गृह में प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के पूर्ण होने के बाद, सभी साक्षी महानुभावों को दर्शन कराया जाएगा। श्री रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा के लिए हर जगह उत्साह का भाव है। इसे अयोध्या समेत पूरे भारत में बड़े उत्साह के साथ मनाने का संकल्प किया गया है। समारोह के पूर्व विभिन्न राज्यों के लोग लगातार जल, मिट्टी, सोना, चांदी, मणियां, कपड़े, आभूषण, विशाल घंटे, ढोल, सुगंध इत्यादि के साथ आ रहे हैं। उनमें से सबसे उल्लेखनीय थे माँ जानकी के मायके द्वारा भेजे गए भार (एक बेटी के घर स्थापना के समय भेजे जाने वाले उपहार) जो जनकपुर (नेपाल) और सीतामढ़ी (बिहार) के ननिहाल से अयोध्या लाए गए। रायपुर, दंडकारण्य क्षेत्र स्थित प्रभु के ननिहाल से भी विभिन्न प्रकार के आभूषणों आदि के उपहार भेजे गए हैं।

अयोध्या में निर्माणाधीन श्रीराम जन्मभूमि मंदिर की विशेषताएं

ram janmbhumi राम मंदिर, अयोध्या : प्राण प्रतिष्ठा और संबंधित आयोजनों का विवरण
  1. मंदिर परम्परागत नागर शैली में बनाया जा रहा है।
  2. मंदिर की लंबाई (पूर्व से पश्चिम) 380 फीट, चौड़ाई 250 फीट तथा ऊंचाई 161 फीट रहेगी।
  3. मंदिर तीन मंजिला रहेगा। प्रत्येक मंजिल की ऊंचाई 20 फीट रहेगी। मंदिर में कुल 392 खंभे व 44 द्वार होंगे।
  4. मुख्य गर्भगृह में प्रभु श्रीराम का बालरूप (श्रीरामलला सरकार का विग्रह), तथा प्रथम तल पर श्रीराम दरबार होगा।
  5. मंदिर में 5 मंडप होंगे: नृत्य मंडप, रंग मंडप, सभा मंडप, प्रार्थना मंडप व कीर्तन मंडप
  6. खंभों व दीवारों में देवी देवता तथा देवांगनाओं की मूर्तियां उकेरी जा रही हैं।
  7. मंदिर में प्रवेश पूर्व दिशा से, 32 सीढ़ियां चढ़कर सिंहद्वार से होगा।
  8. दिव्यांगजन एवं वृद्धों के लिए मंदिर में रैम्प व लिफ्ट की व्यवस्था रहेगी।
  9. मंदिर के चारों ओर चारों ओर आयताकार परकोटा रहेगा। चारों दिशाओं में इसकी कुल लंबाई 732 मीटर तथा चौड़ाई 14 फीट होगी।
  10. परकोटा के चारों कोनों पर सूर्यदेव, मां भगवती, गणपति व भगवान शिव को समर्पित चार मंदिरों का निर्माण होगा। उत्तरी भुजा में मां अन्नपूर्णा, व दक्षिणी भुजा में हनुमान जी का मंदिर रहेगा।
  11. मंदिर के समीप पौराणिक काल का सीताकूप विद्यमान रहेगा।
  12. मंदिर परिसर में प्रस्तावित अन्य मंदिर- महर्षि वाल्मीकि, महर्षि वशिष्ठ, महर्षि विश्वामित्र, महर्षि अगस्त्य, निषादराज, माता शबरी व ऋषिपत्नी देवी अहिल्या को समर्पित होंगे।
  13. दक्षिण पश्चिमी भाग में नवरत्न कुबेर टीला पर भगवान शिव के प्राचीन मंदिर का जीर्णो‌द्धार किया गया है एवं तथा वहां जटायु प्रतिमा की स्थापना की गई है।
  14. मंदिर में लोहे का प्रयोग नहीं होगा। धरती के ऊपर बिलकुल भी कंक्रीट नहीं है।
  15. मंदिर के नीचे 14 मीटर मोटी रोलर कॉम्पेक्टेड कंक्रीट (RCC) बिछाई गई है। इसे कृत्रिम चट्टान का रूप दिया गया है।
  16. मंदिर को धरती की नमी से बचाने के लिए 21 फीट ऊंची प्लिंथ ग्रेनाइट से बनाई गई है।
  17. मंदिर परिसर में स्वतंत्र रूप से सीवर ट्रीटमेंट प्लांट, वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट, अग्निशमन के लिए जल व्यवस्था तथा स्वतंत्र पॉवर स्टेशन का निर्माण किया गया है, ताकि बाहरी संसाधनों पर न्यूनतम निर्भरता रहे।
  18. 25 हजार क्षमता वाले एक दर्शनार्थी सुविधा केंद्र (Pilgrims Facility Centre) का निर्माण किया जा रहा है, जहां दर्शनार्थियों का सामान रखने के लिए लॉकर व चिकित्सा की सुविधा रहेगी।
  19. मंदिर परिसर में स्नानागार, शौचालय, वॉश बेसिन, ओपन टैप्स आदि की सुविधा भी रहेगी।
  20. मंदिर का निर्माण पूर्णतया भारतीय परम्परानुसार व स्वदेशी तकनीक से किया जा रहा है। पर्यावरण-जल संरक्षण पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। कुल 70 एकड़ क्षेत्र में 70% क्षेत्र सदा हरित रहेगा।

भगवान श्री रामलला के अनुजों सहित दिव्य दर्शन – अयोध्या धाम

ram lala राम मंदिर, अयोध्या : प्राण प्रतिष्ठा और संबंधित आयोजनों का विवरण
श्री राम लला
ram lala1 राम मंदिर, अयोध्या : प्राण प्रतिष्ठा और संबंधित आयोजनों का विवरण
श्री राम लला अनुज भाइयों सहित

राम मंदिर अयोध्या लेटेस्ट न्यूज़ – Ram Mandir Ayodhya Latest News

Katha पेरिस में निकलेगी 21 जनवरी को राम रथ यात्रा

paris राम मंदिर, अयोध्या : प्राण प्रतिष्ठा और संबंधित आयोजनों का विवरण
paris1 राम मंदिर, अयोध्या : प्राण प्रतिष्ठा और संबंधित आयोजनों का विवरण

Katha Ram Mandir : राम मंदिर के लिए सब्जी विक्रेता ने भेंट की वर्ल्ड क्लॉक

अनिल कुमार साहू ने राम मंदिर, अयोध्या जंक्शन और हनुमानगढ़ी मंदिर को एक-एक पेटेंट विश्व घड़ी समर्पित की, जो एक साथ नौ देशों का समय दिखाएगी। यह वर्ल्ड क्लॉक घड़ी 5 साल में बनकर तैयार हुई।

Katha राम मंदिर उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए, सोनिया गांधी काफी पॉजिटिव हैं – दिग्विजय सिंह

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी के अयोध्या में राम मंदिर उद्घाटन समारोह में शामिल होने पर अभी कोई फैसला नहीं हो सका है।

ये किसी पार्टी का ट्रस्ट नहीं है, ये केंद्र सरकार की ओर से स्थापित किया गया है। इसमें जाने से हमें क्या आपत्ति हो सकती है। इस मामले में सोनिया गांधी तो पॉजिटिव हैं।

दिग्विजय सिंह

Katha Ram Mandir : राम मंदिर के लिए सब्जी विक्रेता ने भेंट की वर्ल्ड क्लॉक

अनिल कुमार साहू ने राम मंदिर, अयोध्या जंक्शन और हनुमानगढ़ी मंदिर को एक-एक पेटेंट विश्व घड़ी समर्पित की, जो एक साथ नौ देशों का समय दिखाएगी। यह वर्ल्ड क्लॉक घड़ी 5 साल में बनकर तैयार हुई।

➤ प्रार्थना करने पर सेट पर शूटिंग के लिए खुद आ गया था कौआ : दीपिका चिखलिया

➤ टीवी सीरियल रामायण के श्री राम, लक्ष्मण और सीता जी का अयोध्या में हुआ भव्य स्वागत

➤ राममय अयोध्‍या के तूफ़ान में यूट्यूबर भी बहे, अयोध्‍या में यूट्यूबरस की भारी भीड़

12 राज्‍यों से 300 से ज्‍यादा यूट्यूबर्स आए हुए हैं। यूट्यूबरस दिन-रात वीडियो बना रहे, चैनल्स पर अपलोड कर रहे हैं, और पैसा भी मस्त कूट रहे हैं।

➤ भगवान श्री राम को समर्पित स्मारक डाक टिकट जारी

➤ राम भक्तों ने अमेरिक में टेस्ला कार से की अनोखी रचना

ram ji tesla राम मंदिर, अयोध्या : प्राण प्रतिष्ठा और संबंधित आयोजनों का विवरण

➤ सरकार नहीं, रामभक्तों के पैसों से बना है राम मंदिर : योगी आदित्यनाथ

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें।

देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले पाने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस - International Mother Language Day

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस – International Mother Language Day

भारत की टाटा कंपनी ने पाकिस्तान को पीछे छोड़ा 

भारत की टाटा कंपनी ने पाकिस्तान को पीछे छोड़ा 

AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC ताज महोत्सव - Taj Mahotsav : 2024

ताज महोत्सव – Taj Mahotsav : 2024

UltranewsTv देशहित

यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करना ना भूलें | देश-दुनिया, राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म, लाइफस्टाइल से जुड़ी हर खबर सबसे पहले जानने के लिए UltranewsTv वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें।
भारत के राष्ट्रपति | President of India

भारत के राष्ट्रपति : संवैधानिक प्रमुख 

pCWsAAAAASUVORK5CYII= भारत के प्रधानमंत्री - Prime Minister of India

भारत के प्रधानमंत्री – Prime Minister of India

pCWsAAAAASUVORK5CYII= परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

परमवीर चक्र : मातृभूमि के लिए सर्वोच्च समर्पण

Total
0
Shares
Previous Post
तमिलनाडु में राम लला प्राण प्रतिष्ठा समारोह के प्रसारण पर रोक

तमिलनाडु में राम लला प्राण प्रतिष्ठा समारोह के प्रसारण पर रोक

Next Post
पूर्वोत्तर भारत - NorthEast India

पूर्वोत्तर भारत – NorthEast India

Related Posts
AAFocd1NAAAAAElFTkSuQmCC क्या है Egas Bagwal? : दिल्ली में उत्तराखंड की संस्कृति का होगा आगाज़, ‘इगास बग्वाल’ पर्व की बुराड़ी में मचेगी धूम

क्या है Egas Bagwal? : दिल्ली में उत्तराखंड की संस्कृति का होगा आगाज़, ‘इगास बग्वाल’ पर्व की बुराड़ी में मचेगी धूम

भारत विविधताओं का देश है। भारत के अलग-अलग प्रान्तों व क्षेत्रों में अलग-अलग पर्व-त्यौहार मनाये जाते हैं। कई…
Read More
Total
0
Share